लाइव टीवी

RJD की कमान अपने हाथ में लेना चाहते हैं तेजप्रताप यादव !
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: December 18, 2018, 4:47 PM IST
RJD की कमान अपने हाथ में लेना चाहते हैं तेजप्रताप यादव !
पटना के RJD ऑफिस में तेजप्रताप यादव

तेजप्रताप के तेवर साफ बता रहे हैं कि लालू प्रसाद के बाद वो किसी के अधीन काम करने को तैयार नहीं हैं. उन्होंने युवाओं की एक बड़ी रैली करने का ऐलान किया है जिसमें तेजस्वी यादव को भी आमंत्रित करने की बात कही है. जाहिर है यह पार्टी पर पकड़ बनाने की तेजप्रताप यादव की एक बड़ी कोशिश है.

  • Share this:
क्या लालू परिवार में सत्ता संघर्ष चल रहा है? क्या तेजप्रताप अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव के नेतृत्व को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं ? क्या दो भाइयों बीच शह मात का खेल खेला जा रहा है?  ये कुछ ऐसे सवाल हैं जो तेजप्रताप यादव की पटना वापसी के बाद उभरे हैं. 16 दिसंबर को जिस अंदाज में वे आरजेडी ऑफिस पहुंचे, मीटिंग ली और विरोधियों के खिलाफ हुंकार भरते हुए जंग का एलान किया, इससे ये संकेत निकलकर आ रहा है कि तेजप्रताप पार्टी की कमान खुद लेना चाहते हैं.

तेजप्रताप के तेवर साफ बता रहे हैं कि लालू प्रसाद के बाद वो किसी के अधीन काम करने को तैयार नहीं हैं. तभी तो उन्होंने कहा कि वे युवाओं की रैली करेंगे जिसमें तेजस्वी यादव को भी आमंत्रित करेंगे. जाहिर है यह पार्टी पर उनकी पकड़ बनाने की एक बड़ी कोशिश है.

ये भी पढ़ें- तेजप्रताप यादव को किस बात की है 'टेंशन', क्यों है डिप्रेशन, जानिये 5 कारण



ऐसा माना जा रहा है कि तेजप्रताप अभी खुलकर तेजस्वी का विरोध भले हीं नहीं करें, लेकिन गांधी मैदान में रैली का एलान करके तेजप्रताप ने ना सिर्फ सब को चौंकाया है बल्कि ये संदेश भी दे दिया है कि अब वो पार्टी की कमान संभालना चाहते हैं. ये भी स्पष्ट है कि पार्टी में किसी एक का राज नहीं चलने वाला और फिर पार्टी को किस राह चलना है, ये भी वो खुद तय करेंगे.



ये भी पढ़ें-  सब-इंस्पेक्टर ने पुलिस स्टेशन में की खुदकुशी, फांसी के फंदे से लटकती मिली लाश

तेजप्रताप यादव के ताजा रुख से साफ हो रहा है कि भले ही लालू यादव और आरजेडी ने तेजस्वी यादव को अपना नेता मान लिया हो, वे भले ही नेता प्रतिपक्ष बन गए हों, लेकिन अब तेजप्रताप ने भी सत्ता के लिए ताल ठोक दिया है. उनमें भी सत्ता की महत्त्वाकांक्षा साफ-साफ नजर आ रही है.

तेजप्रताप महीने भर से अपने घर नहीं गए हैं. अपने निजी संबंधों के कारण वो परिवार के सभी सदस्यों से नाराज भी चल रहे हैं. ऐसे में अचानक से पार्टी में उनकी एन्ट्री और फिर रैली का एलान ये बताता है कि वो पार्टी की कमान छोड़ना नहीं चाहते. बहरहाल लालू परिवार में सत्ता के लिए मचे इस घमासान में आखिरकार जीत किसकी होगी ये तो वक्त बताएगा, लेकिन विपक्ष इसे भुनाने से नहीं चूकेगा. ऐसे में यह देखना भी दिलचस्प होगा कि RJD अब किसे अपना नेता मानती है?

रिपोर्ट- अमित कुमार सिंह

ये भी पढ़ें-  बिहारियों को लेकर कमलनाथ के बयान पर सियासत, बीजेपी बोली- सत्ता संभालते ही क्षेत्रवाद का बीज बोना शुरू कर दिया
First published: December 18, 2018, 3:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading