लाइव टीवी

130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी रेल, 387 किमी. की दूरी 3.50 घंटे में की पूरी

Neelkamal | News18Hindi
Updated: February 10, 2020, 11:02 PM IST
130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी रेल, 387 किमी. की दूरी 3.50 घंटे में की पूरी
इस दौरान ट्रेन की औसत गति 111 कि.मी. प्रति घंटे और स्टेशनों के मध्य रेलखंडों पर अधिकत्तम गति 130 कि.मी. प्रति घंटे रही. (प्रतीकात्मक फोटो)

इस गाड़ी में कुल 24 अलग-अलग तरह तरह की बोगी लगाई गईं, जिसमें AC-1, AC-2, AC-3, Sleeper के साथ General कैटेगरी की बोगी थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2020, 11:02 PM IST
  • Share this:
पटना. दूरी करीब 400 किमी. और ट्रेन ने सिर्फ 3.50 घंटे में ये दूरी पूरी की. 130 की रफ्तार से दौड़ती हुई ट्रेन ने मेंझाझा जंक्‍शन से पं‌डित दीनदयाल उपाध्याय जंक्‍शन तक कंफरमेट्री ओसिलोग्राफी कार रन का सफल परीक्षण किया. परीक्षण के दौरान यह ट्रेन झाझा से सुबह 9:30 बजे खुलकर मोकामा, बख्तियारपुर, पटना, आरा, बक्सर से थ्रु पास करते हुए 1 बजकर 23 मिनट पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन  पहुंच गई. हालांकि इस विशेष गाड़ी को परिचालन के दौरान पुनारख स्टेशन के पास तकनीकी कारणों से कुल तीन मिनट रुकना पड़ा था. इस तरह यह COCR स्पेशल गाड़ी द्वारा झाझा से दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन की कुल दूरी 387 किलोमीटर की दूरी को 3 घंटे 50 मिनट में तय की गई.

130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली ट्रेन
इस दौरान ट्रेन की औसत गति 111 कि.मी. प्रति घंटे और स्टेशनों के मध्य रेलखंडों पर अधिकत्तम गति 130 कि.मी. प्रति घंटे रही. पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि कुछ स्टेशनों पर किसी गाड़ी को अधिकतम मानक गति से परिचालन करना संरक्षात्मक की दृष्टि से ठीक नहीं माना जाता है इसलिए कुछ स्टेशन पर ट्रेन की रफ्तार को कम किया गया था.

कैसे होता है हाई स्पीड ट्रेन का परीक्षण

इस गाड़ी में कुल 24 अलग-अलग तरह तरह की बोगी लगाई गईं, जिसमें  AC-1, AC-2, AC-3, Sleeper के साथ  General कैटेगरी की बोगी थीं. राजेश कुमार ने बताया कि परीक्षण के दौरान सभी बोगी के सभी सीट पर एक आदमी के बराबर औसतन वजन रखा जाता है, जो लगभग 65 -70 किलोग्राम के वजन का बालू को बोरियों के में रूप में होता है. इस विशेष गाड़ी द्वारा पटरी एवं चक्को के बीच का घर्षण, अधिकत्तम गति के समय डब्बों की स्थिरता, घुमावदार स्थानों पर डब्बों का झुकाव जैसे बिंदुओं का आंकलन भी किया जाता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 11:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर