पटना के इस गांव में चल रही थी नकली दवा बनाने की फैक्ट्री, एक करोड़ का माल जब्त

मामला पटना से सटे नौबतपुर थाना क्षेत्र का है. कहा जा रहा है कि पुलिस ने मोतीपुर गांव में गुप्त सूचना के आधार पर छपेमारी कर एक करोड़ रुपए की नकली दवा बरामद की है.

News18 Bihar
Updated: July 3, 2019, 11:38 PM IST
पटना के इस गांव में चल रही थी नकली दवा बनाने की फैक्ट्री, एक करोड़ का माल जब्त
नकली दवा बरामद
News18 Bihar
Updated: July 3, 2019, 11:38 PM IST
बिहार के पटना जिले से एक बड़ी खबर सामने आई है, जहां पुलिस और ब्राण्ड प्रोटेक्शन सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है. गुप्त सूचना के आधार पर छपेमारी के बाद पुलिस ने मल्टीनेशनल कंपनी जाइडस कैडिला मकडोलस एवं डाबर कंपनी के नाम पर बनाई गईं नकली दवाएं बरामद की है. बरामद की गईं नकली दवाओं की कीमत एक करोड़ रुपए आंकी गई है.

मामला पटना से सटे नौबतपुर थाना क्षेत्र का है

जानकारी के मुताबिक, मामला पटना से सटे नौबतपुर थाना क्षेत्र का है. कहा जा रहा है कि पुलिस ने मोतीपुर गांव में गुप्त सूचना के आधार पर छपेमारी कर एक करोड़ रुपए की नकली दवा बराम की है. कंपनी के मैनेजिंग डॉयरेक्टर मुस्तफा हुसैन ने बताया कि इन तीनों कंपनी से बराबर शिकयत मिल रही थी. इसके बाद एक टीम का गठन कर इस मामले की जांच कराई गई तो पता चला कि नौबतपुर थाना के मोतीपुर गांव स्थित ब्रह्मदेव साव के मकान में ब्रांडेड कंपनी के नाम पर नकली दवाएं बनाई जा रही हैं.

मुकेश कुमार नाम का व्यक्ति इस धंधे का कर रहा था संचालन 

कहा जा रहा है कि दुल्हिबजार थाना के सिघाड़ा कोपा गांव के मुकेश कुमार नाम का व्यक्ति इस धंधे का संचालन कर रहा था. पुलिस ने उस मकान से जाइरस कैडिला कंपनी के स्किन लाइट क्रीम के 30000 खाली ट्यूब टॉक्सिम कस, 650 रैपर स्किन लाइट, 4500 ट्यूब और डाबर कंपनी के 4350 पीस दंत मंजन बरामद किया गया है. पुलिस मामले की छानबीन करने में जुटी है.

रिपोर्ट- आदित्य

रातभर नाले में पड़ी रही, सुबह फायर ब्रिगेड की टीम ने निकाला
Loading...

महाराष्ट्र CM फडणवीस एफिडेविट मामले का 23 जुलाई को निस्‍तारण

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2019, 11:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...