लाइव टीवी

बिहार में 31 मार्च तक लॉक डाउन, किराना-दवा समेत इन चीजों की खुली रहेंगी दुकान
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: March 23, 2020, 9:33 AM IST
बिहार में 31 मार्च तक लॉक डाउन, किराना-दवा समेत इन चीजों की खुली रहेंगी दुकान
बिहार में 31 मार्च तक लॉक डाउन की घोषणा की गई है. (सांकेतिक फोटो)

जिन सेवाओं को लॉक डाउन की स्थिति से दूर रखा गया है उनमें निजी क्षेत्र की चिकित्सा व्यवस्था यानी डॉक्टर, दूरसंचार सेवा, बैंकिंग, एटीएम डेयरी, खाद्यान और किराने का प्रतिष्ठान शामिल हैं

  • Share this:
पटना. दुनिया के कई देशों को अपनी चपेट में ले रहे कोरोना बीमारी (Corona Virus) को लेकर भारत भी हाई अलर्ट पर है. इस महामारी (Epidemic) से कारगर ढंग से बचा जा सके इसको लेकर बिहार को भी लॉक डाउन (Lock Down) कर दिया गया है. बिहार इस महामारी से बचाव के लिए 31 मार्च तक लॉक डाउन रहेगा लेकिन इस दौरान इमरजेंसी सेवाएं निर्बाध (बिना रूकावट) रूप से चलती रहेंगी. बावजूद इसके लोगों के मन में लॉक डाउन को लेकर कई तरह के संशय और सवाल हैं, ऐसे में न्यूज़ 18 हिंदी आपको बता रहा है कि आखिर लॉक डाउन होता क्या है और बिहार में जारी लॉक डाउन के दौरान किन सेवाओं को इससे दूर रखा जाएगा.

क्या होता है लॉक डाउन

सबसे पहले आपको लॉक डाउन जानने की जरूरत है. दरअसल लॉक डाउन का मतलब एक ऐसी इमरजेंसी व्यवस्था से होता है जो किसी भी महामारी या आपदा के वक्त शहर में सरकारी तौर पर लागू किया जाता है. लॉक डाउन की स्थिति में उस क्षेत्र के लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती है. हां, उन्हें जरूरत की चीजों के लिए घर से निकलने की इजाजत जरूर दी जाती है ताकि वो दवा, अनाज, दूध इत्यादि जरूरत के सामान को खरीद सकें या फिर बैंक, पैसे पोस्ट ऑफिस से पैसे समेत दूरसंचार सेवाओं का लाभ ले सकें.

कौन सी सेवाएं होंगी प्रभावित



दूसरा सवाल उठता है कि बिहार में कौन सी चीजें लॉक डाउन से प्रभावित होंगी और किन-किन सेवाओं को इससे दूर रखा जाएगा. हम आपको बता रहे हैं कि 31 मार्च तक बिहार में लॉक डाउन की स्थिति के दौरान निजी प्रतिष्ठान, निजी कंपनियों के कार्यालय, सार्वजनिक परिवहन सेवा पूर्णता बंद रहेंगे. इसके अलावा सभी जिला मुख्यालय, अनुमंडल और प्रखंड कार्यालय नगर निकायों पर भी ये आदेश लागू रहेगा. इस दौरान जरूरत की सेवाएं बाधित नहीं होंगी.

ये सेवाएं नहीं होंगी बाधित

जिन सेवाओं को लॉक डाउन की स्थिति से दूर रखा गया है उनमें निजी क्षेत्र की चिकित्सा व्यवस्था यानी डॉक्टर, दूरसंचार सेवा, बैंकिंग, एटीएम, डेयरी, खाद्यान और किराने का प्रतिष्ठान शामिल हैं. इसके अलावा फल-सब्जी की दुकान, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी, पोस्ट ऑफिस, कूरियर और इलेक्ट्रॉनिक समेत प्रिंट मीडिया के संचालन पर रोक नहीं लगेगी. लॉक डाउन के दौरान मालवाहक यानी सामान को लेकर जाने वाली गाड़ियां और एंबुलेंस की व्यवस्था भी प्रभावित नहीं की जाएगी. इसको लेकर बिहार में स्वास्थ्य विभाग द्वारा निर्देश जारी किया गया है. बता दें कि बिहार में इस महामारी के संदिग्धों की संख्या जहां लगातार बढ़ रही है वहीं तीन केस अब तक पॉजिटिव पाए गए हैं.

ये भी पढ़ें- COVID-19: मैट्रिक की परीक्षा का मूल्यांकन कार्य बंद, देर से आएंगे 10वीं के नतीजे!

बिहार में कोरोना वायरस से पहली मौत, शख्स ने पटना एम्स में तोड़ा दम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 8:45 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर