होम /न्यूज /बिहार /

खुले में यूरीन करते ही बजने लगेगा अलार्म, पटना के तीन छात्रों ने बनाई अनोखी डिवाइस

खुले में यूरीन करते ही बजने लगेगा अलार्म, पटना के तीन छात्रों ने बनाई अनोखी डिवाइस

खुले में यूरीन रोकने वाली डिवाइस को दिखाते पटना के तीन युवा

खुले में यूरीन रोकने वाली डिवाइस को दिखाते पटना के तीन युवा

PM Swacch Bharat Mission: पिछले साल जब कोरोना के कारण देश मे जनता कर्फ्यू लागू था तभी प्रशांत, विवेक और प्रियांशु राज ने आपस में मिलकर इस डिवाइस का निर्माण किया और स्वच्छता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दिखाई.

पटना. स्वच्छ भारत, स्वस्थ्य भारत यह नारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendar Modi) ने देश वासियों को दिया है. पीएम के इस नारे को मूर्त रूप देने का काम इन दिनों पटना नगर निगम (Patna Municipal Corporation) लगातार कर रहा है. दरअसल पटना नगर निगम स्वच्छ्ता सर्वेक्षण 2021 के तहत अपनी रैंकिंग सुधारने को सुधारने की दिशा में इन दिनों लगातार काम कर रहा है. इधर पटना नगर निगम के इस पहल को निखारने के काम पटना के तीन प्रतिभाशाली छात्र प्रियांशु राज, प्रशांत और विवेक ने किया है. दरअसल इन तीनों छात्रों ने दो ऐसे डिवाइस बनाये हैं जिसमें से एक सार्वजनिक शौचालयों की सफाई रख रखाव के बारे में बताता है तो दूसरा खुले में यूरिन करने वाले लोगों को रोकता-टोकता है.

महज 2200 का खर्च

मसलन जब कोई व्यक्ति खुले में यूरिन करता है तो यह डिवाइस आवाज करने लगता है. इस डिवाइस को बनाने वाले प्रियांशु राज बताते हैं कि इस डिवाइस को बनाने में महज 2200 रुपये की लागत आती है. प्रियांशु राज के मुताबिक शौचालय का उपयोग करने के बाद प्रत्येक फीडबैक वोटिंग के बाद दो सेकेंड के भीतर मशीन की स्क्रीन पर चार सूचनाएं दिखाई देंगी इनका मतलब यह है कि प्रतिक्रिया सफलतापूर्वक फीड हो गई है इससे यह भी पता चलेगा कि शौचालय साफ है या नहीं.

10 हजार डेटा स्टोर करती है यह मशीन

प्रियांशु के अनुसार स्वच्छता का फीड बैक देने वाली यह मशीन 10 हजार डेटा स्टोर करके रख सकती है. अगर कोई अधिकारी स्वच्छता से जुड़ी जानकारी लेना चाहता है तो इस मशीन से ले सकता है. 10 हजार डाटा एकत्र होने के बाद मशीन खुद फॉर्मेट हो जाती है और फिर जीरो से शुरुआत करने लगती है. इस डिवाइस का आविष्कार करने वाले युवकों में से एक प्रशांत का कहना है कि यह मशीन उनकी खुद की सोच का नतीजा है. पिछले साल जब देश मे जनता कर्फ्यू लागू था तभी इनके दिमाग में ऐसा कुछ करने का विचार आया. इसके बाद इन्होंने इसकी चर्चा अपने साथियों से की और फिर विवेक और प्रियांशु राज के सहियोग से इस डिवाइस का निर्माण कर लिया.

कस्टमाइज्ड फीडबैक डिवाइस 

प्रियांशु राज इस डिवाइस के बारे में विस्तार पूर्वक बताते हैं कि यह एक कस्टमाइज्ड फीडबैक डिवाइस है.  इसमें 3 गुना 1 इंच का डिस्प्ले लगा हुआ है इसके नीचे पांच रंगों के पांच पुश बटन हैं. इनमें हरा रंग बेहतर, नीला रंग अच्छा, सफेद औसत और पीला बेकार और लाल बहुत बेकार की प्रतिक्रिया का विकल्प है. शौचालय का इस्तेमाल करने के बाद उसकी साफ सफाई के अनुसार इनमें से किसी भी बटन को दबाने पर बीप की आवाज आएगी और मिनटों में आपकी प्रतिक्रिया मशीन में कैद हो जाएगी. अगर आपको अपनी प्रतिक्रिया बदलनी हो तो मशीन द्वारा 10 मिनट का समय दिया जाता है इससे आप वापस फीडबैक दे सकते हैं,

पटना नगर निगम से प्रामाणित हो चुका है यह डिवाइस 

विवेक बताते है कि अपने साथियों के सहयोग से बने इस डिवाइस को लेकर इन्होंने कुछ दिन पहले पटना नगर निगम के आयुक्त हिमांशु शर्मा और शीला ईरानी से मुलाकात की थी. निगम के इन दोनों शीर्ष अधिकारियों ने इनके इस डिवाइस को देखा और इसकी बारीकियों को समझने के बाद इसे ना सिर्फ पास कर दिया गया बल्कि शहर में बने सार्वजनिक शौचालयों में इनके इस डिवाइस को लगाने की अनुमति भी दे दी है.

छह अंचलों में भेजी जा चुकी है डिवाइस

विवेक के मुताबिक अब इस डिवाइस के इस्तेमाल के लिये पटना नगर निगम के छह अंचलों में डिवाइस भेज दी गई है. इनमें पाटलिपुत्र अंचल में पांच, सचिवालय में पांच, बांकीपुर में पांच, कंकड़बाग में दो, पटना सिटी में पांच और अजीमाबाद अंचल में 5 डिवाइस भेजी गई हैं जहां इसका इस्तेमाल किया जा रहा है.

Tags: Bihar News, PATNA NEWS, Swachhta Abhiyaan, Tracking device

अगली ख़बर