Home /News /bihar /

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: जानें अब तक क्या-क्या हुआ

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: जानें अब तक क्या-क्या हुआ

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम का मास्टरमाइंड आरोपी ब्रजेश ठाकुर (File Photo)

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम का मास्टरमाइंड आरोपी ब्रजेश ठाकुर (File Photo)

सुप्रीम कोर्ट ने अदालत में मौजूद मुख्‍य सचिव से पूछा कि अगर अपराध हुआ था तो आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 377 और पॉक्‍सो एक्‍ट के तहत अभी तक मामला दर्ज क्‍यों नहीं किया गया.

    बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने नीतीश सरकार को फटकार लगाते हुए कहा था कि पूरे मामले में राज्‍य का रवैया बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण, अमानवीय और लापरवाह है. सुप्रीम कोर्ट ने अदालत में मौजूद मुख्‍य सचिव से पूछा कि अगर अपराध हुआ था तो आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 377 और पॉक्‍सो एक्‍ट के तहत अभी तक मामला दर्ज क्‍यों नहीं किया गया. वहीं बिहार सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद विपक्ष ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा. आरजेडी ने नीतीश सरकार पर मामले की लीपापोती करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार सत्ता में बने रहने का नैतिक आधार खो चुकी है. वहीं शरद यादव ने कहा कि जिस तरह से इस घटना को छिपाने की कोशिश की गई और मुख्य सचिव को सुप्रीम कोर्ट में माफी मांगनी पड़ी.

    बता दें कि इस मामले में सेवा संकल्प एवं विकास समिति के रसूखदार संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत 11आरोपी जेल में हैं. इनमें आठ महिलाएं भी शामिल हैं.

    जानिए कब- कब क्या हुआ-

    27 नवंबर 2018- सुप्रीम कोर्ट ने नीतीश सरकार को फटकार लगाई. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पूरे मामले में राज्‍य का रवैया बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण, अमानवीय और लापरवाही भरा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने अदालत में मौजूद मुख्‍य सचिव से पूछा कि अगर अपराध हुआ था तो आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 377 और पॉक्‍सो एक्‍ट के तहत अभी तक मामला दर्ज क्‍यों नहीं किया गया.

    23 नवंबर 2018- मुजफ्फरपुर शेल्टर होम के आर्म्स एक्ट मामले में 1 दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेजी गईं पूर्व मंत्री मंजू वर्मा.

    21 नवंबर 2018- मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु को सीबीआई ने किया गिरफ्तार.

    20 नवंबर 2018- मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में लड़कियों को नशीला इंजेक्शन लगाने वाला गिरफ्तार.

    23 जुलाई, 2018- लड़कियों ने एक साथी की हत्या और बालिका गृह में ही दफनाए जाने का बयान दिया था. इसे देखते हुए मुजफ्फरपुर बालिका गृह परिसर में खुदाई की गई. मिट्टी को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया.

    23 जुलाई, 2018- एनफोल्ड इंडिया हैदराबाद और एम्स के डॉक्टरों की टीम लड़कियों के इलाज के लिए पटना पहुंची.

    22 जुलाई, 2018- भारी मानसिक सदमे से गुजर रहीं 30 लड़कियों को पटना और मधुबनी से मोकामा के नाजरथ अस्पताल और आश्रय में भेजा गया (यह भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह यौन शोषण मामले में तेजस्वी ने फिर साधा सरकार पर निशाना).

    19 जुलाई, 2018- पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल (पीएमसीएच) ने पीड़िताओं की मेडिकल रिपोर्ट मुजफ्फरपुर पुलिस को सौंपी. कुल 21 लड़कियों के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई.

    14 जुलाई, 2018- छपरा में बालिका अल्पावास गृह में यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया. एक लड़की के गर्भवती पाए जाने के बाद एनजीओ संचालक गिरफ्तार (यह भी पढ़ें- ऐसे हुआ था मुजफ्फरपुर बालिका गृह शोषण केस का खुलासा...)

    26 जून, 2018- मुजफ्फरपुर जिला बाल संरक्षण अधिकारी रवि रौशन लापरवाही के आरोप में गिरफ्तार.

    03 जून, 2018- एनजीओ संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत आठ आरोपी गिरफ्तार. इनमें ब्रजेश को छोड़ कर बाकी सभी महिलाएं.

    31 मई, 2018- जिला बाल सुरक्षा इकाई के सहायक निदेशक देवेश कुमार शर्मा ने मुजफ्फरपुर महिला थाने में एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया.

    30 मई, 2018- बालिका गृह की सभी 42 लड़कियों को पटना और मधुबनी भेजा गया.

    28 मई, 2018– साहू रोड, मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह के संचालक एनजीओ के खिलाफ एफआईआर की अनुमति मिली (यह भी पढ़ें- बालिका और अल्पावास गृह चलाने के लिए NGO को करोड़ों रुपये देती है बिहार सरकार).

    26 मई, 2018– समाज कल्याण विभाग ने मुजफ्फरपुर प्रशासन को रिपोर्ट भेजी.

    मई, 2018– टीआईएसएस ने राज्य सरकार को रिपोर्ट सौंपी.

    सितंबर, 2017 – मार्च 2018– टीआईएसएस ने राज्य भर के बालिका गृह और अल्पावास गृहों में रहने वाली लड़कियों से बातचीत की (यह भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में हुई खुदाई, बच्ची को मारकर गाड़ने का शक).

    जुलाई, 2017– बिहार सरकार ने राज्य के सभी बालिका गृह और अल्पावास गृहों के सोशल ऑडिट के लिए टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) के साथ करार किया.

    Tags: Bihar News, Muzaffarpur Shelter Home Rape Case, Nitish kumar, Supreme Court

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर