'कायस्थ लैंड' के रण में रविशंकर को मोदी तो शत्रु को लालू 'मैजिक' का सहारा

साल 2019 में कायस्थ लैंड की सूरत भले ही न बदली हो लेकिन उम्मीदवारों के चेहरे बदल गए हैं. फाइट सीधे तौर पर कायस्थ बनाम कायस्थ है.

Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: May 17, 2019, 1:34 PM IST
Amrendra Kumar
Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: May 17, 2019, 1:34 PM IST
बिहार में अगर मधेपुरा लोकसभा सीट की पहचान यादव लैंड के तौर पर होती है तो पटना साहिब सीट भी कायस्थ लैंड के तौर पर जाना जाता है. दरअसल कायस्थ बाहुल्य इस सीट पर नेताओं की किस्मत का फैसला कायस्थ वोटर ही करते हैं यही कारण है कि हरेक चुनाव चाहे वो लोकसभा का हो या फिर विधानसभा का प्रत्याशियों की जाति अधिकांशत: कायस्थ ही होती है.

ये भी पढ़ें- बीजेपी सांसद बोले- ममता बनर्जी के इशारे पर काम कर रही है बंगाल पुलिस



2019 के चुनाव में भी इस सीट की तस्वीर कुछ ऐसी ही है और यहां सीधा मुकाबला कायस्थ बनाम कायस्थ है. एनडीए ने जहां केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को चुनावी समर में उतारा है वहीं उनके सामने इस सीट से सीटिंग एमपी और कांग्रेस के नेता शत्रुघ्न सिन्हा हैं. कायस्थ बहुल पटना साहिब सीट की सीट इस बार भी हाई प्रोफाइल फाइट का गवाह बन रही है और पूरे देश की नजरें इस सीट पर आ टिकी हैं. इस सीट को पिछले चुनाव यानी 2014 में बीजेपी के शत्रुघ्न सिन्हा ने जीता था लेकिन इस बार के हालात और समीकरण दूसरे हैं और वो कांग्रेस में जा चुके हैं.

ये भी पढ़ें- यादवों के गढ़ में भी बार-बार क्यों हार जाता है लालू परिवार?

शत्रु के पाला बदलने से एनडीए को एक दमदार उम्मीदवार की तलाश थी जो रविशंकर प्रसाद पर जाकर पूरी हुई. इस सीट से बीजेपी के ही एक और चेहरे आरके सिन्हा को लेकर भी चर्चा तेज थी लेकिन पार्टी ने उनकी जगह रविशंकर पर भरोसा जताया और पहली बार उनको लोकसभा चुनाव के दंगल में उतार दिया. साल 2014 के चुनाव की बात करें तो इस चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा को 485,905 वोट मिले थे. पिछले चुनाव में उनके मुकाबले में कांग्रेस ने सिने स्टार कुणाल सिंह को खड़ा किया था जिनको 220,100 मत मिले थे वहीं जेडीयू ने शहर के प्रख्यात चिकित्सक और कायस्थ चेहरे गोपाल प्रसाद सिन्हा को टिकट दिया था लेकिन वो मात्र 91,024 वोट पा सके थे.

ये भी पढ़ें- काम से ज्यादा बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं मोदी कैबिनेट के मंत्री, राबड़ी को दी थी घूंघट की सलाह

साल 2019 में कायस्थ लैंड की सूरत भले ही न बदली हो लेकिन उम्मीदवारों के चेहरे बदल गए हैं. फाइट सीधे तौर पर कायस्थ बनाम कायस्थ है. कहा जा रहा है कि पार्टी के फैसले से आरके सिन्हा नाराज हैं तो वहीं शत्रुघ्न सिन्हा को भी कायस्थ समेत एमवाई का वोट मिलेगा. बीजेपी छोड़ने के बाद बिहारी बाबू शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस के टिकट से हैट्रिक लगाने की कोशिश में है तो इस प्रयास में उनको लालू, मांझी और कुशवाहा का भी साथ मिल रहा है वहीं रविशंकर प्रसाद की बात करें तो वो नीतीश के काम, मोदी मैजिक और कायस्थों के परंपरागत वोटों के सहारे मैदान में हैं. पटना साहिब सीट से कायस्थ मतदाताओं के साथ ही वोटिंग का प्रतिशत भी काफी हद तक हार-जीत की तस्वीर को साफ करेगा.
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार