इंसेफेलाइटिस का मुफ्त होगा इलाज, फ्री मिलेगी एंबुलेंस: बिहार सरकार

बिहार सरकार ने जापानी बुखार ( इंसेफेलाइटिस ) के रोगियों का मुफ्त में इलाज करने की घोषणा की है. इसके अलावा प्रदेश की स्‍वास्‍थ्‍य टीम की मदद के लिए केंद्र सरकार ने एक और टीम मुजफ्फरपुर भेजी है.

News18 Bihar
Updated: June 17, 2019, 8:26 PM IST
इंसेफेलाइटिस का मुफ्त होगा इलाज, फ्री मिलेगी एंबुलेंस: बिहार सरकार
बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने इसकी जानकारी दी है.
News18 Bihar
Updated: June 17, 2019, 8:26 PM IST
बिहार सरकार ने जापानी बुखार (इंसेफेलाइटिस) के रोगियों का इलाज मुफ्त करने का ऐलान किया है. साथ ही एंबुलेंस की सुविधा भी फ्री दे जाएगी. राज्य के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने कहा है कि अगर कोई प्राइवेट गाड़ी का इस्तेमाल करके अस्पताल तक रोगी को लाएगा तो सरकार की तरफ से संबंधित व्‍यक्ति को किराए के पैसे वापस किए जाएंगे. मुख्य सचिव ने यह भी कहा कि मृतक बच्चों के परिवारवालों को चार लाख रुपए की आपदा राशि मुहैया कराई जाएगी.

बिहार में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिड्रोम (AES) यानी चमकी बुखार का कहर जारी है. अकेले मुजफ्फरपुर में इससे 100 से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है. लगातार बिगड़ रहे हालात की समीक्षा के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बैठक की है.

रविवार को हालात का जायजा लेने पहुंचे थे डॉ. हर्षवर्धन
रविवार को ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, राज्य मंत्री अश्विनी चौबे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय मुजफ्फरपुर में हालात का जायजा लेने के लिए पहुंचे थे. उन्होंने कहा था कि एईएस से दोबारा इतने बच्चों की मौत न हो, इसके लिए लगातार प्रयास और रिसर्च किया जाएगा. रविवार को बिहार के मुजफ्फरपुर पहुंचे हर्षवर्धन ने बिहार सरकार को आश्वासन दिया था कि AES की रोकथाम के लिए हाई क्वालिटी का रिसर्च सेंटर बनेगा और 1 साल के भीतर ये रिसर्च सेंटर पूरा होगा.

केंद्र ने भेजी एक और टीम
मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार के कहर के बीच केंद्र सरकार ने एक और उच्‍चस्‍तरीय टीम भेजी है. यह टीम राज्‍यस्‍तरीय विशेषज्ञों के दल का सहयोग करेगी. बता दें कि बिहार के विभिन्‍न जिलों में पांच अत्‍याधुनिक लैब खोलने और मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच में बच्‍चों के लिए 100 बेड वाली आईसीयू बनाने की भी घोषणा की गई है.


Loading...

मुजफ्फरपुर सबसे अधिक प्रभावित
बिहार में इस समय लोगों का हर वक्त यह सोचकर दिल दहल रहा है कि आखिर और कितने मासूम बच्चों की मौत को देखना होगा? क्योंकि जिस तरह एक-एक करके यह संख्या बढती जा रही है, वह कहां जाकर रुकेगी. अकेले मुजफ्फरपुर के SKMCH में काल के गाल में समा जाने वाले मासूम बच्चों की संख्या सौ से अधिक पार कर गई है.

ये भी पढ़ें:

चमकी बुखार से 125 बच्चों की मौत, हर्षवर्धन के खिलाफ शिकायत

PC में सोने के आरोप पर बोले अश्विनी चौबे, मै चिंतन कर रहा था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 17, 2019, 7:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...