होम /न्यूज /बिहार /बिहटा गैंगवार: पटना के NIT घाट पर तैरते मिले दो बालू माफियाओं के शव

बिहटा गैंगवार: पटना के NIT घाट पर तैरते मिले दो बालू माफियाओं के शव

शव मिलने की घटना के बाद घटनास्थल पर जमा भीड़

शव मिलने की घटना के बाद घटनास्थल पर जमा भीड़

Patna Sand Mafia Gangwar: पटना से सटे बिहटा-अमनाबाद में हुई गैंगवार की घटना में मौत के बाद दोनों के शव को साथियों ने गं ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पटना से सटे बिहटा इलाके में गैंगवार की घटना हुई थी
बालू माफियाओं के बीच हुई गैंगवार की इस घटना में कई लोग मारे गए थे
पुलिस अभी भी घटनास्थल पर कैंप किये हुए है

पटना. पिछले दिनों बिहटा के अमनाबाद में बालू माफियाओं के दो गुट के बीच अंधाधुंध फायरिंग में मारे गए दो लोगों का शव शनिवार को पटना में मिलने से खलबली मच गई. ये दोनों शव पीरबहोर थाना क्षेत्र के एनआईटी घाट के सामने गंगा नदी में मिले. पटना पुलिस द्वारा दोनों की पहचान मनेर के ब्यापुर निवासी 45 वर्षीय लालदव राय और नालंदा के कराय-परशुराय के ग्वालबिगहा निवासी 47 वर्षीय मुकेश सिंह उर्फ ललेद्र सिंह के रूप में की गयी है. खुद पटना के एसएसपी डा. मानवजीत सिंह ढिल्लों ने शव की शिनाख्त की पुष्टि करते हुए बताया कि दोनों के पीठ में रायफल की एक-एक गोली लगी थी.

एनआईटी घाट पर दो लाशों के मिलने के बाद नालन्दा के  शत्रुध्न के परिजन भी शवों की शिनाख्त करने गए थे. वहीं इस वारदात में एक का शव पहले मिल चुका है जबकि तीन लोगों के लापता होने की बात सामने आई थी. गोलीबारी में अभी भी मनेर में रहने वाले शत्रुध्न राय लापता हैं. दरअसल शनिवार को  स्थानीय युवक मनोहर राम द्वारा नदी में दोनों शवों को देखा गया था. इसके बाद वहां भीड़ जुट गई. इसके बाद भीड़ में ही किसी ने पुलिस को सूचना दी. दोनों शवों को पानी से बाहर निकलवाया गया. दोनों शव को एक साथ नाव की रस्सी से बांधा गया था. रस्सी में नाव को किनारे बांधने वाला लोहा भी था.

नाव की रस्सी से शवों के बंधे होने की बात सामने आने के बाद इसका कनेक्शन बिहटा के अमनाबाद में बालू माफियाओं के बीच हुई गोलीबारी से जोड़कर देखा जाने लगा था. यह माना जा रहा है कि लालदेव और मुकेश की हत्या के बाद बालू माफिया ने लाशों को सोन नदी में फेंक दिया जो गंगा में बहकर पटना तक पहुंच गयी. पुलिस अब मानने लगी है की फायरिंग में और मौत हो सकती है. पुलिस को शक है कि शवों को बालू माफिया ने या तो गंगा में फेंक दिया या फिर बालू में दबा दिया था. जिस तरह बालू माफिया गोली मारने के बाद सबूत छिपाने के लिए दोनों शवों को रस्सी और नाव बांधने वाले भारी लोहे से बांधकर उसे गंगा में फेंक दिया, इनसे पुलिस अब नदी में किनारे इलाकों में नजर रख रही है.

इन दोनों शवों के मिलने के बाद पटना पुलिस में भी खलबली मच गई. पटना के एसएसपी एमएस ढिल्लो भी शनिवार की शाम को अमनाबाद पहुंच गये और स्थानीय किसानों से मुलाकात करने के अलावा हालात का भी जायजा लिया.

Tags: Bihar News, Gangwar, PATNA NEWS

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें