• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • NEET 2021: पटना से लेकर छपरा तक यूपी-बिहार पुलिस की छापेमारी, फरार हुआ सॉल्वर गैंग का सरगना PK

NEET 2021: पटना से लेकर छपरा तक यूपी-बिहार पुलिस की छापेमारी, फरार हुआ सॉल्वर गैंग का सरगना PK

NEET सॉल्वर गैंग का सरगना पीके उर्फ नीलेश

NEET सॉल्वर गैंग का सरगना पीके उर्फ नीलेश

NEET Solver Gang: नीट सॉल्वर गैंग के सरगना पीके (PK) की तलाश में पहुंची पुलिस को कई अहम सुराग मिले हैं. पीके उर्फ नीलेश अपनी पहचान लोगों के बीच बतौर डॉक्टर देता था और रईस की जिंदगी जीता था.

  • Share this:

पटना. यूपी में नीट परीक्षा (NEET 2021) के दौरान सॉल्वर गैंग का मामला सामने आने के बाद उसके सरगना की तलाश के लिए यूपी पुलिस (UP Police) ने बिहार पुलिस के साथ रविवार को पटना से लेकर छपरा तक एक साथ छापेमारी की. हालांकि इस दौरान सॉल्वर गैंग (NEET Solver Gang) का सरगना पीके उर्फ नीलेश सिंह पुलिस के गिरफ्त में नहीं आ सका. छापेमारी के पहले ही पीके पटना और छपरा दोनों जगह से फरार हो गया. दबिश के दौरान पीके की तस्वीर पुलिस को जरूर हाथ लगी है.

नीट परीक्षा में धांधली के दौरान उजागर हुई सॉल्वर गैंग के मास्टर माइंड पीके उर्फ नीलेश सिंह पटना के पाटलिपुत्र में रहता है. महंगी गाड़ियों और रहन-सहन में विलासिता की जिंदगी जीने वाला पीके अपनी कॉलोनी के लोगों को अपना परिचय डॉक्टर के रूप में देता था. उसने यहां चार मंजिला आलीशान मकान बनवाया है. वह महंगी गाड़ियों का भी शौकीन रहा है. पुलिस की छापेमारी के बाद पीके की असलियत उजागर होने से आसपास के लोग काफी हैरान हैं. बिहार के छपरा जिले के सेंधवा गांव में पीके के पैतृक आवास पर जब पुलिस गई तब उसे यह जानकारी मिली कि स्थानीय लोग उसे एक बिजनेसमैन के रूप में जानते हैं.

सॉल्वर गैंग के सदस्य एक सिम का उपयोग सप्ताह भर से ज्यादा नहीं किया करते थे. इस बात की जानकारी वाराणसी पुलिस द्वारा गिरफ्तार के किए गए गैंग के सदस्य विकास कुमार महतो और राजू कुमार ने पुलिस को दी है. सॉल्वर गैंग के इन दोनों महत्वपूर्ण सदस्यों ने पुलिस को बताया कि सभी सदस्य फर्जी आईडी पर लिए गए सिम कार्ड का उपयोग करते थे और बातचीत के लिए मुख्य तौर पर व्हाट्सएप मैसेज और कॉल का ही सहारा लिया जाता था.

पुलिस को इन दोनों ने बताया कि गिरोह के अभ्यर्थियों के मूल शैक्षणिक प्रमाण पत्र, एडमिट कार्ड मंगवाने के लिए हमेशा एयर कुरियर सर्विस का इस्तेमाल किया जाता था. इसका मुख्य मकसद  था कि कुरियर कंपनी का डिलीवरी बॉय कभी उनके ठिकाने तक नहीं आ पाता था. कुरियर सॉल्वर गैंग के सदस्य कुरियर कंपनी जाकर ही ले लेते थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज