• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • PATNA UP ELECTION 2022 NITISH KUMAR MINISTER MUKESH SAHNI VIP PARTY WILL CONTEST SEPARATELY FROM BJP CGPG

नीतीश के मंत्री ने लगाया UP पर दांव, मुकेश सहनी की VIP बीजेपी से अलग लड़ेगी चुनाव

बिहार के मंत्री मुकेश सहनी का बड़ा बयान. (File Photo)

UP Election 2022: नीतीश सरकार के मंत्री और वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) ने उत्तर प्रदेश में  होने वाले चुनावों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है.

  • Share this:
दिल्ली/पटना. उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Election) को लेकर सियासी हलचल तेज है. चुनावी उठापटक के बीच नीतीश सरकार के मंत्री और वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) के एक बयान की अब खूब चर्चा हो रही है. VIP के मुकेश सहानी ने कहा है कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले चुनाव के लिए तैयारी कर रही है. बीजेपी से अलग चुनाव लड़ने पर उन्होंने कहा कि हम चाहेंगे कि देश के अलग अलग हिस्से में पार्टी का विस्तार करें. 150 से अधिक सीटों पर निषाद एक निर्णायक वोट है, लेकिन हमारी नजर पूरे यूपी पर है. समय आने पर निर्णय लेंगे कि कितनी सीटों पर चुनाव लड़ना है.



बीजेपी नेता हरिभूषण ठाकुर के बयान पर बिना किसी का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि हर नेता को गंभीरता से बात करनी चाहिए. ऐसी कोई बात न करें कि किसी को कोई ठेस पहुंचे. बगैर जांच के टिप्पणी करना सही नहीं. किसी को भी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए.

अटकलें तेज

हालही में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव  सिंह अचानक बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेई के घर पहुंच थे. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की कॉल लक्ष्मीकांत बाजपेई के पास आई. उन्होंने घर आने की इच्छा जताई. लक्ष्मीकांत बाजपेई ने बताया कि काफी देर तक उनकी और प्रदेश अध्यक्ष के बीच शिष्टाचार भेंट हुई. उन्होंने बताया कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष को उन्होंने कोरोना से बचाव के लिए काढ़ा बनाने का पैकेट भी दिया. लक्ष्मीकांत बाजपेई भले ही इसे शिष्टाचार भेंट बता रहे हों लेकिन राजनीतिक गलियारों में ये मुलाकात चर्चा का विषय बनी रही.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल पर भी इस मुलाकात का ज़िक्र किया. स्वतंत्र देव सिंह ने मुलाकात के बाद एक फोटो के साथ ये लिखते हुए ट्वीट किया कि बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेई से शिष्टाचार भेंट हुई. इस मुलाकात के क्या राजनीतिक मायने हैं? ये तो आने वाला वक्त बताएगा लेकिन फिलहाल राजनीतिक गलियारों में इस शिष्टाचार मुलाकात की चर्चा गर्म है.