लाइव टीवी

उपेंद्र कुशवाहा को 20-20 फार्मूला नामंजूर, NDA दलों की बैठक बुलाने की मांग

News18 Bihar
Updated: August 31, 2018, 6:15 AM IST
उपेंद्र कुशवाहा को 20-20 फार्मूला नामंजूर, NDA दलों की बैठक बुलाने की मांग
उपेंद्र कुशवाहा ( न्यूज 18 फोटो)

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कुछ सीटें सहयोगियों के बीच अदला-बदली भी की जा सकती है. उपेंद्र कुशवाहा पर भी एनडीए की नजर है. अगर वो गठबंधन छोड़कर जाते हैं तो उनकी सीटें बीजेपी और जेडीयू में बंटेगीं.

  • Share this:


बिहार में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एनडीए के बीच सीट बंटवारे की खबर बाहर आने पर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव माधव आनंद ने ट्वीट कर सीट बंटवारे की खबर को भ्रामक बताया. साथ ही ये भी कहा कि अगर रालोसपा की जानकारी के बिना ऐसा हुआ है तो ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव ने ट्वीट कर कहा, "मैं राष्ट्रीय लोक समता पार्टी की तरफ से बहुत जिम्मेदारी के साथ यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि अगर बीजेपी इस प्रकार के सीट बंटवारे के फार्मूला को अपनाना चाहती हैं तो हमारी पार्टी साफ़ हैं कि यह प्रस्ताव हमें यह बिल्कुल अस्वीकार हैं."


 उन्होंने एक और ट्वीट कर कहा, "मैं एनडीए के सभी घटक दलों से मांग करना चाहूंगा कि जल्द से जल्द सभी पार्टियों की बैठक हो और सीट के बंटवारे को लेकर एक लोकतांत्रिक चर्चा की जाए. मुझे लगता हैं कि रालोसपा आने वाले चुनाव में एक महत्वपूर्ण भूमिका में रहेगी."

माधव आनंद ने ट्वीट कर कहा कि राष्ट्रीय लोक समता पार्टी बिहार की एक मुख्य पार्टी हैं और सभी दल हमारे महत्व को समझ रहे हैं. आज मैं यह फिर से मांग करना चाहता हूं कि जल्द से जल्द सीटों का बंटवारा लोकतांत्रिक और पारदर्शी तरीके से हो. जिससे सारी अफवाहों को विराम दिया जाए.

जानकारी के मुताबिक, बिहार में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एनडीए के बीच पहले से तय 20-20 फॉर्मूले के आधार पर सीटों के बंटवारे पर बातचीत अंतिम चरण में है. गठबंधन में सबसे बड़ी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) जीती हुई सीटों में दो सीट छोड़ेगी और सिर्फ 20 पर चुनाव लड़ेगी.


बची 20 सीटों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) 12-14, रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) 5-6, उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ( आरएलएसपी) 2 और अरुण कुमार जहानाबाद सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.





न्यूज 18 ने सबसे पहले 10 अप्रैल को ही ये खबर दे दी थी कि एनडीए के गैर भाजपाई दलों ने 20-20 फॉर्मूला सामने रखा है, जिस पर बीजेपी तैयार है. बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में 30 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे और 22 में उसे सफलता हासिल हुई थी. लोजपा को सात में छह और रालोसपा ने सभी तीन सीटों पर जीत हासिल की थी. हालांकि बाद में रालोसपा सांसद अरुण कुमार बागी हो गए और कुशवाहा का साथ छोड़ दिया.

ये भी पढ़ें- 20-20 फार्मूले पर NDA के बीच इस तरह होगा सीटों का बंटवारा, कुशवाहा नाराज

भाजपा के लिए दो सीट की कुर्बानी आसान है क्योंकि दरभंगा से कीर्ति आजाद और पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा का पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है. दरभंगा जेडीयू के खाते में जाएगी. संजय झा यहां से चुनाव लड़ेंगे.

12 जुलाई को अमित शाह और नीतीश कुमार की बंद कमरे में हुई बातचीत में इस पर भी सहमति बनी थी कि टिकट बंटवारे में उम्मीदवार के जीतने की संभावना ही सबसे बड़ी शर्त होगी. इस लिहाज से कई सीटों पर जेडीयू या बीजेपी के प्रत्याशी एक दूसरे के सिंबल पर भी चुनाव लड़ सकते हैं.

ये भी पढ़ें- भोजपुरी फिल्म 'संघर्ष' की हॉट एक्ट्रेस काजल राघवानी ने गाया सोहर

जेडीयू ने 17 से 18 सीटों की मांग की थी. इसे देखते हुए बीजेपी नीतीश की पार्टी को झारखंड और उत्तर प्रदेश में भी एक-एक सीट दे सकती है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कुछ सीटें सहयोगियों के बीच अदला-बदली भी की जा सकती है. उपेंद्र कुशवाहा पर भी एनडीए की नजर है. अगर वो गठबंधन छोड़कर जाते हैं तो उनकी सीटें बीजेपी और जेडीयू में बंटेगीं. सूत्रों से ये भी खबर है कि अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पटना साहिब, दरभंगा, बेगूसराय, वाल्मीकीनगर, मधुबनी और वैशाली में उम्मीदवार बदले जा सकते हैं. इसके अलावा 2019 चुनाव में जेडीयू को यूपी और झारखंड में भी कुछ सीटें देने पर सहमति बनी है.

ये भी पढ़ें- PHOTOS : मुंगेर में मिला हथियारों का जखीरा, एके-47 देख पुलिस रह गई दंग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2018, 8:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर