लाइव टीवी

महागठबंधन में बिखराव! उपेंद्र कुशवाहा के अनशन में शामिल नहीं होंगे तेजस्वी- सूत्र

News18 Bihar
Updated: November 26, 2019, 10:33 AM IST
महागठबंधन में बिखराव! उपेंद्र कुशवाहा के अनशन में शामिल नहीं होंगे तेजस्वी- सूत्र
पटना के मिलर स्कूल में आज से आमरण अशन पर बैठेंगे उपेंद्र कुशवाहा, लेकिन तेजस्वी यादव की मौजूदगी निश्चित नहीं कही जा रही है. (फाइल फोटो)

उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार के रवैये के कारण प्रदेश में शिक्षा की स्थिति दयनीय हो गई है. मजबूरन हमें आमरण अनशन करना पड़ रहा है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 26, 2019, 10:33 AM IST
  • Share this:
पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) मंगलवार से आमरण अनशन पर बैठने वाले हैं. शिक्षा में सुधार, केंद्रीय विद्यालय की मांग जैसे कई मुद्दों को लेकर पटना के मिलर स्कूल के मैदान में बड़ी संख्या में रालोसपा कार्यकर्ताओं के जुटने की बात कही जा रही है. बताया जा रहा है कि इसमें महागठबंधन के भी कई नेता शामिल होंगे. लेकिन सूत्रों से मिली खबर के अनुसार, बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस अनशन से दूरी बना ली है.

जानकारी के अनुसार, तेजस्वी यादव आज झारखंड में चुनाव प्रचार के लिए जा रहे हैं और वह एक चुनावी सभा को संबोधित करेंगे. फिलहाल वह बिहार के औरंगाबाद में हैं. बताया जा रहा है कि तेजस्वी आज विधानसभा की कार्यवाही में भी शामिल नहीं होंगे. इस बीच, हिन्‍दुस्‍तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी के कुशवाहा के अनशन में शामिल होने की बात कही जा रही है.

बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार के रवैये के कारण प्रदेश में शिक्षा की स्थिति दयनीय हो गई है. मजबूरन उन्हें आमरण अनशन करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में 47 केंद्रीय विद्यालय चल रहे हैं, जिनमें से 20 का संचालन किराए की बिल्डिंग में हो रहा है.

उपेंद्र कुशवाहा आमरण अनशन पर बैठेंगे.


कुशवाहा का आरोप है कि राज्य के जिन केंद्रीय विद्यालयों के पास स्थायी भवन नहीं है, वहां औसतन 1420 बच्चों का नामांकन है, तो अस्थायी भवन वाले स्कूलों में 468 बच्चे हैं. उनका आरोप है कि स्थायी भवन के लिए भी राज्य सरकार जमीन उपलब्ध नहीं करा रही है.

रालोसपा प्रमुख का यह भी कहना है कि जब वे केंद्र में मंत्री थे तो बिहार में केंद्रीय विद्यालय के लिए प्रस्ताव मांगे, लेकिन बहुत मेहनत के बाद भी सिर्फ नवादा और औरंगाबाद के देवकुंड से प्रस्ताव गए. वर्ष 2018 के अगस्त में दोनों स्थानों पर केवी खोलने की अनुमति दे दी गई, लेकिन बिहार सरकार की उदासनीता के कारण आज दोनों स्थान विद्यालय नहीं खुल सके.

बिहार प्रदेश रालोसपा कार्यालय में प्रेस वार्ता करते हुए उपेंद्र कुशवाहा.

Loading...

मंगलवार को संविधान दिवस के अवसर पर कुशवाहा ने ट्वीट कर शिक्षा के मुद्दे को जोड़ते हुए ट्वीट भी किया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'बच्चों को निशुल्क और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा भीख नहीं, बल्कि संवैधानिक अधिकार है और इसे हम लेकर रहेंगे.'

इनपुट- अमित कुमार सिंह

ये भी पढ़ें


बिहार: 'अर्जुन के द्रोणाचार्य' की ताजपोशी की इनसाइड स्टोरी, पढ़ें 10 कारण




सुशील मोदी बोले- चोट है तो जख्म दिखाएं, विधान परिषद में कांग्रेस MLC उतारने लगे कपड़े

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 9:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...