अपना शहर चुनें

States

उपेंद्र कुशवाहा के 'छि: छि:' बयान का वशिष्ठ नारायण सिंह ने किया समर्थन, तेजस्वी यादव पर साधा निशाना

जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने बड़ा बयान दिया है.
जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने बड़ा बयान दिया है.

जेडीयू  प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashistha Narayan Singh) का कहना है कि तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) का बयान निर्लज्जता की सीमा पार कर चुका था.

  • Share this:
पटना. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और एनडीए के विधायकों पर की गई टिप्पणी के बाद बिहार के राजनीतिक माहौल में हलचल बढ़ गई है. इस मामले में  पूर्व केंद्रीय मंत्री व राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने भी सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) का साथ दिया. कुशवाहा ने एक ट्वीट के जरिए तेजस्वी यादव के आचरण को अमर्यादित करार दिया. उपेंद्र कुशवाहा ने अपने ट्वीट (Tweet) में लिखा था कि तेजस्वी यादव ने सदन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  के प्रति जिस तरह की अभद्र भाषा का प्रयोग किया, वह घोर निंदनीय है. छि: छि: ! क्या इसी राड़ी-बेटखउकी के लिए सदन है? . इसी कड़ी में अब JDU प्रदेश अध्यक्ष ने भी तेजस्वी यादव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

जेडीयू  प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashistha Narayan Singh) ने कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा ने जो राजनीतिक शुचिता का परिचय दिया है मैं उसका स्वागत करता हूं. बिहार के नेता प्रतिपक्ष पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव का बयान निर्लज्जता की सीमा पार कर चुका था.  तो वहीं उपेन्द्र कुशवाहा के बयान पर राजद ने भी पलटवार किया है. आरजेडी नेता शक्ति यादव का कहना है कि जो खुद हारे हुए हैं, कहीं के नहीं हैं, उनका नीतीश कुमार को समर्थन देने से क्या मिलेगा?. बड़ा आरोप लगाते हुए आरजेडी नेता ने कहा कि नीतीश कुमार खुद धोखे से मुख्यमंत्री बने हैं. उन्हें उपेन्द्र कुशवाहा का समर्थन मुबारक हो.

ये भी पढ़ें: सुशील मोदी 2 दिसंबर को करेंगे राज्यसभा के लिए नामांकन, CM नीतीश कुमार सहित BJP के बड़े चेहरे होंगे शामिल



तेजस्‍वी का पलटवार, नीतीश ने दी सफाई
बिहार चुनाव प्रचार के दौरान की तल्खी तेजस्वी यादव ने सदन में भी जारी रखी और उन्होंने सीएम नीतीश कुमार पर सदन में व्यक्तिगत टिपण्णी कर दी. उन्होंने कहा, नीतीश अपनी चुनावी सभाओं में लालू को 9 बच्चों की बात करते थे. कहते थे बेटी पर भरोसा नहीं था, बेटे के लिए 9 बच्चे हुए. क्या नीतीश कुमार को लड़की पैदा होने का डर था, इसलिए उन्‍होंने दूसरा बच्चा नहीं पैदा किया? इसके अलावा आरजेडी नेता ने कहा कि यह किसी मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देता कि आप मेरे परिवार की बहनों को राजनीति में घसीटकर लेकर आएं. जबकि बेटे की चाह में बेटियां पैदा करते रहे बयान पर नीतीश कुमार ने सफाई देते हुए कहा कि वो तो हमने मजाक में कह दिया. हम प्रजनन दर की बात करते रहे, उसी में मजाक में कोई बात कह दिए. लोग तो खुद ही अपने बारे में सोचते हैं. मतलब एक बात तो समझ लिए कि लोगों को बातें लगती हैं. इसके अलावा उन्‍होंने कहा कि तेजस्वी ने जो बातें कहीं वैसी बात नहीं करनी चाहिए. सदन में हल्की बात नहीं होनी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज