Home /News /bihar /

हौसले के आगे उम्र पड़ी छोटी, 73 साल के बुजुर्ग ठेला चलाकर अपाहिज पत्नी को दे रहे हैं सहारा

हौसले के आगे उम्र पड़ी छोटी, 73 साल के बुजुर्ग ठेला चलाकर अपाहिज पत्नी को दे रहे हैं सहारा

कल तक इनके आगे सिर्फ गरीबी चुनौती थी और अब लकवा का शिकार हो चुकी पत्नी का इलाज कराना और उसकी जान बचाना चुनौती बन गई है.

    एक ओर इंसान छोटी-छोटी बातों को लेकर निराश और हताश हो जाता है, वहीं हमारे समाज में ही कई ऐसे उदाहरण मौजूद हैं जो ना हमें सिर्फ संघर्ष की सीख देते हैं बल्कि किसी भी परिस्थिति में हार ना मानने का संदेश भी देते हैं. ऐसे ही पटना में एक बुजुर्ग दंपत्ति ठेला चलाकर लाखों की भीड़ में गरीबी, लाचारी और बीमारी से जंग लड़ रहे हैं.

    पटना में ठेला खींच रहे 73 वर्षीय बुजुर्ग गणेश प्रसाद की बदकिस्मती देखिए कि जिस उम्र में उन्हें खुद सहारे की जरूरत थी, आज वह अपाहिज हो चुकी पत्नी को सहारा दे रहे हैं. इस भीड़ में भी ये अकेले हैं क्योंकि इन्हें अपना कोई औलाद नहीं है और पराए को इसकी लाचारी पर फिक्र नहीं है.

    कल तक इनके आगे सिर्फ गरीबी चुनौती थी और अब लकवा का शिकार हो चुकी पत्नी का इलाज कराना और उसकी जान बचाना चुनौती बन गई है. ठेले के सहारे गणेश अपने गांव मनेर से पटना आकर मजदूरी कमाता था लेकिन अब पत्नी को अकेला छोड़ यह मजदूरी भी नहीं कर सकता है. यही वजह है कि ठेले पर पत्नी को लिटाकर सुबह से शाम तक राजधानी में ठेला खींचता रहता है. यहां तक कि पत्नी को अस्पताल भी ठेले पर लिटाकर ही ले जाता है और पूरा सिस्टम तमाशबीन बना रहता है.

    इनके लिए ना तो एंबुलेंस है ना ही मुफ्त की दवाईयां. किसी तरह पीएमसीएच अस्पताल में पत्नी का एक-दो बार इलाज भी हुआ लेकिन दवा खरीदने के लिए पैसे नहीं जुट पाते हैं. बावजूद इसके, स्वाभिमानी स्वभाव का गणेश किसी से भीख नहीं मांगते हैं और सड़कों पर ठेला खींचते रहते हैं.

    रोज सुबह होते ही पटना में ठेला पर पत्नी को लिटाकर निकल पड़ता है और शाम होते ही राजधानी के जगदेव पथ स्थित स्लम एरिया में अपने ठिकाने पर पहुंच जाता है. ये सिलसिला पिछले 3 महीने से चल रहा है लेकिन पत्नी की हालत लगातार बिगड़ती जा रही है और 90 प्रतिशत शरीर लकवाग्रस्त हो गया है. अब गणेश सरकार से गुहार कर रहा है कि पत्नी के इलाज के लिए पैसे दे और विकलांग प्रमाण पत्र मुहैय़ा कराए ताकि लाचारी और गरीबी दूर हो सके.

    बहरहाल, गणेश पटना में हर अजनबी लोगों में अपनों को ढूंढता फिर रहा है क्योंकि इसे अपना औलाद नहीं है. ऐसे में जरूरत है ना सिर्फ इस दंपत्ति को मदद करने की है, बल्कि इनके जज्बे को भी सलाम करने की जरूरत है.

    (पटना से रजनीश कुमार की रिपोर्ट)

    ये भी पढ़ें-

    थाना स्तर पर लापरवाही से बिफरे बिहार DGP, कहा- थोड़ी भी कार्रवाई हो तो रुक जाए अपराध

    थानेदार की 'बदतमीजी' पर तेजप्रताप ने CM नीतीश को लिखा लेटर, निलंबन की मांग

    Tags: Bihar News, PATNA NEWS

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर