लाइव टीवी

पटना: ठंड के मौसम में ये शख्‍स घूम-घूमकर आवारा जानवरों को पहनाता है गर्म कपड़े, जानिए पूरी कहानी
Patna News in Hindi

Rajnish Kumar | News18 Bihar
Updated: January 2, 2020, 11:33 PM IST
पटना: ठंड के मौसम में ये शख्‍स घूम-घूमकर आवारा जानवरों को पहनाता है गर्म कपड़े, जानिए पूरी कहानी
सर्दी के मौसम में आवारा पशुओं की सेवा करते हैं विवेक विश्वास.

बिहार की राजधानी पटना (Rajdhani Patna) में विवेक विश्वास (Vivek Vishwas) रातभर लावारिश पशुओं को गर्म कपड़े पहनाने की मुहिम में जुटे रहते हैं. इस वजह से लोग उन्‍हें बेजुबानों का मसीहा भी कहते हैं.

  • Share this:
पटना. मौजूदा वक्‍त में जहां हर कोई मतलब का यार हो चला है, उस दौर में बेजुबानों को कौन पूछे. वो भी तब जब इस कड़ाके की ठंड में हर कोई खुद को महफूज करने की जुगाड़ में रहता है. लेकिन हम आपको एक ऐसे इंसान की कहानी बताने जा रहे हैं, जो कि ठंड की परवाह किए बगैर आवारा जानवरों और असहाय इंसानों का मददगार बना हुआ है. जी हां, बिहार की राजधानी पटना (Rajdhani Patna) में विवेक विश्वास (Vivek Vishwas) रातभर लावारिश पशुओं को गर्म कपड़े पहनाने की मुहिम में जुटे रहते हैं. इस वजह से लोग उन्‍हें बेजुबानों का मसीहा का कहते हैं.

आमदनी का 30 फीसदी करते हैं खर्च
राजीव नगर के रहने वाले विवेक विश्वास इन दिनों सर्द रातों में ना सिर्फ बेजुबानों को गर्म कपड़े पहनाते हैं बल्कि उसे प्यार देने के अलावा खाना भी खिलाते हैं. राजधानी की सड़कों पर रात के सन्नाटे में विवेक हाथ में कपड़े से भरी बोरी लेकर रोज निकलते हैं और आवारा पशुओं देखकर उनको गर्म कपड़े पहनाने में लग जाते हैं. विवेक की मानें तो वह आवारा पशुओं और असहाय इंसानों की सेवा को ही अपना धर्म समझते हैं. वह कहते हैं कि ठंड तो जानवरों को भी सताती होगी और यही सोचकर मैं रात में सड़कों पर निकल जाता हूं. हालांकि इस दौरान कभी कभार आवारा पशुओं से परेशानी भी होती है, लेकिन उनका हमदर्द बनना मेरा मकसद है.

विवेक विश्वास, patna news
विवके के कदमों की आहट लावारिश जानवर रात के सन्नाटे में आसानी से पहचान जाते हैं .




बहरहाल, पीजी तक की पढ़ाई करने के बाद प्राइवेट जॉब करने वाले विकेक अपनी आमदनी का 30 प्रतिशत खर्च असहाय और लावारिश इंसान या जानवरों खर्च करते हैं.



पहले एकत्रित कर लेते हैं गर्म कपड़े
विवके के कदमों की आहट लावारिश जानवर रात के सन्नाटे में आसानी से पहचान जाते हैं और दौड़ कर पास आ जाते हैं. उन्‍होंने बताया कि हर वर्ष सर्दी आने से पहले ही वही गर्म कपड़े इकट्ठे कर लेते हैं और फिर ठंड के दौरान सड़कों पर जानवरों और असहाय इंसानों की मदद करने निकल पड़ते हैं. यही यहीं, इस दौरान अगर कोई असहाय इंसान या जानवर घायल दिखाई दे तो वो उसे अस्पताल भी पहुंचाते हैं. आपको बता दें कि विवेक राजधानी के अशोक राजपथ से लेकर गांधी मैदान और बेली रोड पर आसानी से दिखाई दे जाते हैं.

 

ये भी पढ़ें-

Opinion: चुनाव 2020 में JDU-भाजपा में किसका होगा पलड़ा भारी?

 

नए साल में पटना पुलिस पर भारी पड़े 'गुंडे', 2 सिपाही अस्‍पताल में भर्ती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 11:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading