लाइव टीवी

PM नरेंद्र मोदी के लिट्टी-चोखा खाते ही ट्विटर पर छिड़ा वार, देखें किसने क्या लिखा
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 20, 2020, 10:03 AM IST
PM नरेंद्र मोदी के लिट्टी-चोखा खाते ही ट्विटर पर छिड़ा वार, देखें किसने क्या लिखा
दिल्ली में लिट्टी-चोखा खाते पीएम नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की केबिनेट का हिस्सा रहे पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने भी ट्विटर के जरिये कटाक्ष किया और लिखा माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी,आपको बिहार की याद आई इसके लिए सहर्ष आभार

  • News18 Bihar
  • Last Updated: February 20, 2020, 10:03 AM IST
  • Share this:
पटना. बिहार की राजनीति की तरह ही बिहारी लिट्टी-चोखा (Litti-Chokha) भी समय-समय पर अपनी हनक दिखाता रहता है. पहले इस लिट्टी-चोखा को खाकर फिल्मी हस्तियों ने अपनी उपलब्धि खूब बटोरी फिर इस लिट्टी के स्वाद से देश के प्रधानमंत्री (PM Narendra Modi) भी खुद को नही रोक पाए. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली में लिट्टी-चोखा क्या खाया कि बिहार की सियासत में घुल गया इसका चटपटा स्वाद और शुरु हो गया खट्टी-मीठी टिप्पीयों का दौर.

राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप जो इन दिनों राजनीतिक रूप से सक्रिय होने की हर मुमकिन कोशिश में जुटे हैं ने ट्वीट कर पीएम मोदी पर हमला बोला. उन्होंने प्रधानमंत्री के लिट्टी चोखा खाने की तस्वीर पर तंज कसते हुए अपने ट्वीट में लिखा है "कतनो खईब लिट्टी चोखा, बिहार न भुली राउर धोखा"…

 इस तंज में भला बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पीछे कैसे रहते. मांझी ने ट्वीट किया मोदी जी लिट्टी-चोखा खाने के लिए धन्यवाद. लिट्टी चोखा खाने को क्या बिहार चुनाव की घोषणा मानी जाए? आपको राज्यों की याद तब ही आती है जब वहाँ चुनाव होता है.

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को दिल्ली के राजपथ पर हुनर हाट पहुंचे थे. इस हाट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहारी व्यंजन के स्टाल के सामने लिट्टी चोख खाने का आनंद लिया. खुद पीएम मोदी ने इसका फोटो शेयर किया और लिखा कि चाय के साथ भोजन में स्वादिष्ट लिट्टी चोखा था और इस पर सियासत हुई गर्म.

कई लोग इसे चुनावी स्टंट बता रहे हैं. लोग पीएम मोदी के इस अन्दाज़ को बिहार चुनाव से जोड़कर देख रहे हैं. ग़ौरतलब है कि बिहार में इस साल के अंत में चुनाव होने हैं, ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिट्टी चोखा खाने की तस्वीर शेयर करते ही बिहार के कई नेताओं ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पीएम की तस्वीर को शेयर किया है.

केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान ने खूब सराहा है. उन्होंने कहा कि ’’बिहार के मशहूर व्यंजन लिट्टी-चोखा का आनंद लिया और इसके स्वाद की मुक्त कंठ से सराहना की. दूसरी तरफ बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने फोटो शेयर करते हुए लिखा कि "इंडिया गेट पर चल रहे हुनर हाट मेले में अचानक पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के प्रसिद्ध लिट्टी- चोखा का लुफ्त उठाया. प्रधानमंत्री जी के दिल में बिहार बसता है. बिहारी व्यंजन को पसंद करते हैं.

 कभी नरेंद्र मोदी के केबिनेट का हिस्सा रहे पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने भी ट्विटर के जरिये कटाक्ष किया और लिखा माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी,आपको बिहार की याद आई इसके लिए सहर्ष आभार ! उम्मीद है कि बिहार आने से पूर्व बकाया भुगतान कर देंगे ।विशेष राज्य, विशेष पैकेज, कृषि, रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं वित्तरहित शिक्षकों के लिए अनुदान जल्दी से जारी करवा दीजिये, नीतीश जी कुछ न मांगेंगे !

 जेडीयू नेता और बिहार सरकार में जलसंसाधन मंत्री संजय झा ने भी तस्वीर शेयर की और लिखा कि’’ पीएम मोदी को लिट्टी चोखा खाते देख खुशी हुई. बिहार के लाखों लोगों के लिए यह व्यंजन सादगी, विनम्रता और यह हमारी महान पाक कला का हिस्सा है. यह गौरव की बात भी है. तो बिहार के इस लिट्टी चोखा ने अपने स्वाद की चटखारे से बिहार की ट्वीटर राजनीति में जायके का तडका लगा दिया है और ट्विटर पर इस पर सियासत ने पकड़ा है जोर​

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 20, 2020, 9:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,112,117

     
  • कुल केस

    1,548,313

    +30,353
  • ठीक हुए

    344,596

     
  • मृत्यु

    91,600

    +3,145
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर