बिहार के छह जिलों में घुसा बाढ़ का पानी, अब तक तीन की मौत, सड़क-रेल यातायात ठप

मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी, सीतामढ़ी-रक्सौल, मुजफ्फरपुर-सुगौली रेलखंड पर रेलवे ट्रैक धंसने की वजह से ट्रेनों का परिचालन बाधित है

News18 Bihar
Updated: July 14, 2019, 11:20 AM IST
News18 Bihar
Updated: July 14, 2019, 11:20 AM IST
नेपाल और उत्तर बिहार में हो रही लगातार बारिश से बिहार के कई जिलों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है. बारिश के कारण आई बाढ़ ने जिन जिलों को प्रभावित किया है उनमें सुपौल, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, किसनगंज, मधुबनी सहित सीतामढ़ी-मुजफ्फरपुर जिले शामिल हैं. इसके कारण मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी, सीतामढ़ी-रक्सौल, मुजफ्फरपुर-सुगौली रेलखंड पर रेलवे ट्रैक धंसने की वजह से ट्रेनों का परिचालन बाधित है. बाढ़ के कारण अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है. अररिया में दो और मोतिहारी में एक बच्‍ची की डूबने से मौत हो गई.

मोतिहारी 



मोतिहारी के कई गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है जिस कारण ग्रामीणों ने ऊंचे स्थानों पर शरण लिया है.
जिले के छौड़ादानो, बनकटवा, ढाका, पताही में बाढ़ का पानी घुसने की खबर है.

मधुबनी

मधुबनी जिले में कमला बलान का तटबंध टूटने से जयनगर शहर में बाढ़ का पानी घुस गया है. बढ़ते जलस्तर के मद्देनजर कोसी बराज के सभी 56 फाटक खोल दिए गए हैं जानकारी के मुताबिक जिले के कई हिस्सों में बाढ़ का पानी 3 फीट से ऊपर बह रहा है.

बिहार में बाढ़ से अब तक छह जिले प्रभावित हुए हैं

Loading...

सीतामढ़ी

सीतामढ़ी के कई इलाकों में बाढ़ का पानी तेजी से फैल रहा है. नये इलाकों में फैल रहे बाढ़ के पानी
ने रीगा प्रखंड कार्यालय और थाने को अपनी चपेट में ले लिया है. BDO समेत कई दूसरे अधिकारियों को शरणार्थी बनना पड़ा है. बाढ़ के कारण कई पावर सब स्टेशन में भी पानी घुस गया है इसके साथ ही रीगा चीनी मील में भी बाढ़ का पानी घुस गया है.

दरभंगा

दरभंगा की बात करें तो यहां दो जगहों पर बांध टूटा है. काकोढ़ा बांध के साथ कैथवार में भी बांध
टूट गया है जिससे जिले के 14 पंचायतों के कई गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है. शिवहर की बात करें तो बाढ़ से हालात खराब हो रहे हैं और कई शहरी इलाकों में भी पानी घुस चुका है. जिले में बाढ़ के पानी ने DM समेत कई अधिकारियों के आवास को भी अपनी चपेट में ले लिया है.

बाढ़ ने कई इलाकों का जिला मुख्यालय से संपर्क तोड़ दिया है


सुपौल

सुपौल की बात करें तो यहां भी जलस्तर में वृद्धि लगातार जारी है. सुपौल में लगातार कोसी का जलस्तर बढ़ रहा है. 3 लाख 71 हजार कोसी बराज का पानी डिस्चार्ज किया गया है जो इस साल का सबसे अधिक डिस्चार्ज है. जिले के बराह क्षेत्र में तटबंध के भीतर कई घर जलमग्न हैं.

पूर्वी चंपारण के पतही ब्‍लॉक में भी बाढ़ का पानी घुस गया है, जिससे लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.


पूर्णिया

जिले के निचले इलाकों में बाढ़ का पानी घुस गया है. बायसी के 11 पंचायतों में बाढ़ का पानी घुसने की खबर है साथ ही नदी के किनारे कुछ घरों में भी बाढ़ का पानी घुस गया है. इलाके से लोगों को निकालने के लिए SDRF को बुलाने की मांग की गई है.

ये भी पढ़ें- माननीय से लेकर अफसर तक क्‍यों बदलवाते हैं टाइल्‍स और सोफा?

ये भी पढ़ें- नेपाल: निम्न दाब से सीमावर्ती इलाकों में भारी बारिश के आसार
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...