Home /News /bihar /

कौन हैं मिथिला पेंटिंग की शिल्पगुरु पद्म श्री गोदावरी दत्त ? पढ़ें

कौन हैं मिथिला पेंटिंग की शिल्पगुरु पद्म श्री गोदावरी दत्त ? पढ़ें

गोदावरी दत्त (फाइल फोटो)

गोदावरी दत्त (फाइल फोटो)

गोदावरी दत्त पिछले 5 दशक से बिहार मधुबनी में मिथिला पेंटिंग पर काम कर रही हैं. बड़ी संख्या में लोग मधुबनी पेंटिंग इनसे सीखने आते हैं. अबतक वे कई बार अलग-अलग देशों का दौरा कर चुकी हैं. विदेश में इस शिल्प को स्थापित कर चुकी हैं.

    मिथिला पेंटिंग की शिल्पगुरु मानी जाने वाली गोदावरी दत्त को पद्मश्री पुरस्कार देने की घोषणा की गई है.  90 साल की गोदावरी दत्त ने मिथिला पेंटिग को घर से निकालकर देश दुनिया में पहुंचाने में बड़ी भूमिका निभाई है. काफी वृद्ध होने के बाद भी वह अपनी पेंटिंग के हुनर से ऐसी पेंटिंग बनाती हैं कि देखने वाले मंत्रमुग्ध हो जाते हैं.

    गोदावरी दत्त पिछले 5 दशक से बिहार मधुबनी में मिथिला पेंटिंग पर काम कर रही हैं. बड़ी संख्या में लोग मधुबनी पेंटिंग इनसे सीखने आते हैं. अबतक वे कई बार अलग-अलग देशों का दौरा कर चुकी हैं. विदेश में इस शिल्प को स्थापित कर चुकी हैं.

    ये भी पढ़ें- संघवाद-समाजवाद को साथ जीते हैं पद्म भूषण हुकुमदेव नारायण यादव

    उन्होंने हाल ही में बिहार म्यूजियम में एक बड़ी पेंटिंग उकेर कर खूब प्रसिद्धि बटोरी है.  इनकी पेंटिंग जापान के मिथिला म्यूजियम में भी प्रदर्शित की गई है.

    गोदावरी दत्त का जन्म एक निम्न मध्यम वर्गीय कायस्थ परिवार में दरभंगा के लहेरियासराय में 1930 में हुआ था. इनका विवाह मधुबनी के रांटी गांव में उपेन्द्र दत्त से हुआ.  जहां से उनकी पेंटिंग्स की यात्रा शुरू हुई. इससे पहले भी दत्त को दर्जनों राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.

    ये भी पढ़ें-  पद्म श्री पुरस्कार पाने वाले मनोज वाजपेयी कौन हैं? पढ़ें

    Tags: Bihar News, Madhubani news, Mithila painting, PATNA NEWS

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर