• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Bihar Politics: जानें तेजस्वी यादव को लेकर लालू यादव के खुश होने का सबब!

Bihar Politics: जानें तेजस्वी यादव को लेकर लालू यादव के खुश होने का सबब!

लालू प्रसाद यादव ने तेजस्वी यादव की खुलकर तारीफ की.

लालू प्रसाद यादव ने तेजस्वी यादव की खुलकर तारीफ की.

Lalu Yadav News: राजद सुप्रीमो से मीडियाकर्मियों ने सवाल किया कि लोग अक्सर तेजस्वी की लालू प्रसाद यादव से तुलना करते हुए उन्हें कमतर आंकते हैं, इसपर आपका क्या कहना है? इसी सवाल के जवाब में लालू यादव ने कहा, 'तेजस्वी यादव हमसे भी बहुत आगे हैं, वे बहुत आगे निकल चुके हैं.

  • Share this:

    पटना. राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu prasad yadav) ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की डोज ली. इस मौके पर मीडियाकर्मियों से बात करते हुए लालू यादव ने अपने छोटे बेटे व बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) की खुलकर तारीफ की. उन्होंने तेजस्वी को खुद से भी आगे बताया और बीते विधान सभा चुनाव में उनके प्रदर्शन को शानदार करार दिया. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि बिहार में राजद के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार बनने वाली थी, लेकिन साजिश के तहत उसे नहीं बनने दिया गया.

    दरअसल राजद सुप्रीमो से मीडियाकर्मियों ने सवाल किया था कि लोग अक्सर तेजस्वी की लालू प्रसाद यादव से तुलना करते हुए उन्हें कमतर आंकते हैं, इसपर आपका क्या कहना है? इसी सवाल के जवाब में लालू यादव ने कहा, ”तेजस्वी यादव हमसे भी बहुत आगे हैं, वे बहुत आगे निकल चुके हैं. किसी को बनाने से नहीं होता है खुद बन जाता है. जब हम जेल के अंदर थे तो बिहार और देश ने देखा कि तेजस्वी यादव की चुनाव सभाओं में किस तरह से क्राउड दिखा. हमलोगों की सरकार को वहां नहीं बनने दिया गया, इसके लिए साजिश की गई.”

    बता दें कि तेजस्वी यादव पर लालू यादव के फूले नहीं समाने के पीछे लोकसभा चुनाव में राजद का सूफड़ा साफ होने के बाद बिहार विधान सभा में राजद का कम बैक रहा. कमबैक ही नहीं बल्कि कई मामलों में वे सीएम नीतीश पर भारी पड़ते दिखे. चुनाव प्रदर्शन को ही आधार माना जाए तो बिहार एनडीए और महागठबंधन के बीच वोटों की संख्या का अंतर महज 12 हजार ही था.

    बीते 2020 विधानसभा चुनाव में वोटों के समीकरण को आंकड़ों में देखें तो साफ नजर आता है कि एनडीए के खाते में 1 करोड़ 57 लाख 01 हजार 226 वोट पड़े थे, जबकि महागठबंधन के खाते में 1 करोड़ 56 लाख 88 हजार 458 वोट पड़े. अगर इसे प्रतिशत के लिहाज से देखें तो एनडीए को 37.26% वोट मिले जबकि महागठबंधन को 37.23% वोट मिले.

    इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि महागठबंधन और एनडीए की जीत में फैसला केवल लगभग 12000 वोट का था. एक और महत्वपूर्ण बात यह कि राजद के कई विधायकों की हार का अंतर भी 1000 वोटों से कम का था. और यह सब तेजस्वी यादव के नेतृत्व में ही मुमकिन हो पाया था. तेजस्वी में अब परिपक्वता भी दिख रही है और वे लगातार विभिन्न मुद्दों पर नीतीश  सरकार को तथ्यों के आधार पर घेरते नजर आते हैं. ऐसे में स्वाभाविक है कि लालू यादव के लिए मुस्कुराने का वक्त है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज