लाइव टीवी

Makar Sankranti 2020 Date: इस बार भी 14 की जगह 15 जनवरी को है मकर संक्रांति, जानिए क्या है वजह
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: January 13, 2020, 11:50 AM IST
Makar Sankranti 2020 Date: इस बार भी 14 की जगह 15 जनवरी को है मकर संक्रांति, जानिए क्या है वजह
मकर संक्रांति का त्योहार 15 जनवरी को है. (फाइल फोटो)

When is Makar Sankranti 2020, Check Date: २०२० की मकर संक्रांति को 14 के बजाये 15 जनवरी को मनाए जाने के पीछे क्या है वजह. ज्योतिष के विशेषज्ञ से जानिए इसकी वजह.

  • Share this:
पटना. पिछले दो-तीन साल से लोगों के बीच मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2020) की तारीख को लेकर अटकलें लगती रही हैं. साल का पहला त्योहार मकर संक्रांति आम तौर पर 14 जनवरी को ही मनाया जाता रहा है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से यह त्योहार 15 जनवरी को मनाया जाने लगा है. कुछ लोग इसके पीछे धार्मिक तर्क देते हैं. वहीं, जानकारी के अभाव में कई जगह ये त्योहार (Happy Makar Sankranti) दोनों ही दिन, यानी 14 और 15 जनवरी को मनाया जाता है. बहरहाल, साल 2020 में मकर संक्रांति का त्योहार 15 जनवरी को मनाया जाएगा.

यह है वजह
ज्योतिष के विशेषज्ञ पटना के पंडित रणधारी की माने तो मकर संक्रांति को 15 जनवरी के दिन मनाने के पीछे ज्योतिषीय गणना ही एकमात्र आधार है. ज्योतिषी ने बताया कि इसके पीछे दरअसल खगोलीय कारण है. पृथ्वी अपनी धुरी पर सूर्य की परिक्रमा करती है. 70 से 75 साल में पृथ्वी की स्थिति में एक डिग्री का बदलाव आता है. इसी वजह से हिंदी पंचांग, जो सभी नौ ग्रहों के आधार पर गणना करते हैं, उसमें एक दिन का अंतर आ जाता है. पं. रणधारी ने बताया कि यही वजह है कि कुछ साल पहले तक जहां मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाती थी, अब 15 जनवरी को यह पर्व मनाया जाता है.

स्नान-दान का त्योहार

पं. रणधारी ने बताया कि पिछले 2-3 वर्षों से सूर्य 14 की आधी रात में ही मकर राशि में प्रवेश कर रहा है. इस साल भी 14 जनवरी की आधी रात के बाद सूर्य का मकर राशि में प्रवेश होगा, इसलिए 15 की सुबह में संक्रांति का त्योहार मनाया जाएगा. उन्होंने बताया कि ये स्नान और दान का पर्व है. इसलिए लोगों को इस दिन सुबह स्नान के बाद गुड़ और तिल का दान करना चाहिए. ब्राह्मणों को भोजन करवाना भी शुभ माना जाता है.

why-makar-sankranti-is-not-celebrate-on-14th-january-know-the-reason-brny-nodrj | इस बार भी 14 की जगह 15 जनवरी को है मकर संक्रांति, जानिए क्या है वजह
ज्योतिष विशेषज्ञ पटना के पं. रणधारी ने बताई मकर संक्रांति के 15 जनवरी को मनाने की वजह.


शुरू होते हैं मांगलिक कार्यसूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के अवसर पर को सूर्य का उत्तरायण होना भी कहा जाता है. पश्चिम भारत में इस दिन उत्तरायण के नाम से ही त्योहार मनाया जाता है. पं. रणधारी ने बताया कि सनातन धर्म में इस दिन के बाद से शुभ यानी मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं.

मकर संक्रांति का राशि पर प्रभाव
मेष - करियर में यश प्रतिष्ठा बढ़ने की संभावना है.
वृष - मकान और प्रॉपर्टी के मामले के लिए उत्तम समय, माता के स्वास्थ्य में समस्या हो सकती है.
मिथुन - स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो सकती है.
कर्क - दाम्पत्य जीवन में समस्या आ सकती है, व्यापार के लिए ये समय अच्छा.
सिंह - नौकरी के लिए समय अच्छा रहेगा, नए रास्ते खुलेंगे.
कन्या - संतान पर अधिक निवेश करना पड़ सकता है, पाचन संबंधी समस्या भी हो सकती है.
तुला - समय अच्छा रहेगा, घर की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी.
वृश्चिक - सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ेगा, नौकरी में प्रमोशन हो सकता है.
धनु - भूले-बिछड़े लोगों से मिलना हो सकता है, आर्थिक लाभ की संभावना.
मकर - स्वास्थ्य पर ध्यान देने की जरूरत, त्वचा संबंधी समस्या भी हो सकती है.
कुंभ - विदेश जाने के अवसर मिल सकते हैं, नौकरी में बड़ी सफलता मिल सकती है.
मीन - राजनीति से जुड़े लोगों के लिए अच्छा समय, सफलता मिल सकती है.

ये भी पढ़ें -

मकर संक्रांति के दिन क्यों खाए जाते हैं तिल के लड्डू? दिलचस्प है इसके पीछे की कहानी

 

DM का अनोखा आदेश- कड़ाके की ठंड में जारी कर दिया गर्मी की छुट्टी का फरमान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 12, 2020, 7:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर