लाइव टीवी
Elec-widget

क्‍या NRC के मुद्दे पर बिहार के CM नीतीश कुमार लेंगे यू-टर्न?

Amitesh | News18 Bihar
Updated: November 28, 2019, 5:16 PM IST
क्‍या NRC के मुद्दे पर बिहार के CM नीतीश कुमार लेंगे यू-टर्न?
जेडीयू अब एनआरसी पर पार्टी के भीतर विचार विमर्श कर रही है.

एनआरसी (NRC) के मुद्दे पर जेडीयू के सुर कुछ बदले-बदले से नजर आने लगे हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) ने इस मुद्दे पर अपनी पार्टी में नेताओं से सलाह लेने की बात कही है. जबकि जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी (KC Tyagi) ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने सभी स्टेक होल्डर से बात करने के संकेत दिए हैं.

  • Share this:
पटना. एनआरसी (NRC) के मुद्दे पर एक बार फिर से राजनीति तेज हो गई है. अब तक इस मुद्दे का विरोध करने वाली जेडीयू के सुर कुछ बदले-बदले से नजर आने लगे हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) ने इस मुद्दे पर अपनी पार्टी में नेताओं से सलाह लेने की बात कही तो यह मुद्दा फिर चर्चा में आ गया. अब जेडीयू (JDU) की तरफ से कहा जा रहा है कि इस पर पार्टी के भीतर अभी विचार-विमर्श हो रहा है. जबकि केंद्र सरकार की तरफ से सभी स्टेक होल्डर से बात करने के संकेत को जेडीयू सकारात्मक तरीके से देख रही है. जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी (KC Tyagi) कहते हैं कि गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने सभी स्टेक होल्डर से बात करने के संकेत दिए हैं. उनकी तरफ से एनआरसी के मूल प्रस्ताव में संशोधन का भी संकेत दिया गया है, लिहाजा उस प्रस्ताव को देखने के बाद ही जेडीयू इस बारे में अपनी रणनीति तय करेगा.

क्‍यों बदला जेडीयू का मन?
दरअसल, जेडीयू अब एनआरसी के मुद्दे पर चर्चा करने और अपनी पार्टी के भीतर भी रायशुमारी की बात कह रही है. पार्टी के रुख में ये बड़ा बदलाव है. इसके पहले जेडीयू की तरफ से बिहार सरकार में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद आलम ने एनआरसी की वकालत कर सनसनी फैला दी थी. उसके बाद से ही जेडीयू के रुख में बड़े बदलाव के तौर पर इसे देखा जा रहा है.

आरजेडी ने जेडीयू पर साधा निशाना

जेडीयू के रूख में आए इस बदलाव पर अब आरजेडी की तरफ से हमला किया जा रहा है. आरजेडी का कहना है कि नीतीश कुमार किसी दबाव की वजह से ऐसा बयान दे रहे हैं. आरजेडी सांसद मनोज झा कहते हैं कि अपनी असफलताओं को छुपाने के लिए एनआरसी नाम की धुंध की चादर लेकर चले हैं, अगर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उस धुंध की चादर में सरीखे गुनाह होना चाहते हैं तो उन्हें मुबारक. जबकि मनोज झा का आरोप है कि पहले भी नीतीश कुमार ने कहा कुछ और किया कुछ है. अगर जेडीयू के रूख में एनआरसी को लेकर परिवर्तन होता है तो फिर यह बात साबित होगी कि कुछ तो है जिस पर पर्दादारी हो रही है.

भाजपा ने कही ये बात
उधर बीजेपी की तरफ से एक बार फिर से एनआरसी लागू होने की बात कही जा रही है. बिहार के सीमांचल इलाके में एनआरसी लागू करने की मांग बीजेपी की तरफ से पहले से हो रही है. अब गृह मंत्री अमित शाह की तरफ से देश भर में लागू करने के बयान के बाद बीजेपी के वे नेता फिर मुखर हो गए हैं जो पहले से ही एनआरसी लागू करने की बात करते रहे हैं.
Loading...

बीजेपी के राज्यसभा सांसद और पूर्व बिहार बीजेपी अध्यक्ष गोपालनारायण सिंह ने कहा है कि बिहार का सेंटीमेंट घुसपैठियों के विरोध में है. सीमांचल इलाके में बांग्लादेशियों के चलते अल्पसंख्यक बहुसंख्यक हो गए हैं और बहुसंख्यक अल्पसंख्यक हो गए हैं. बीजेपी सांसद ने एनआरसी की वकालत करते हुए कहा कि जब नीतीश सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री को विरोध नहीं है तो सरकार को भी विरोध नहीं होना चाहिए. सिंह ने मांग की है कि नीतीश कुमार को अपनी पार्टी, दलगत नीति और वोट बैंक से उपर उठकर बिहार की आवश्यकता के मुताबिक निर्णय लेना चाहिए.

फिलहाल एनआरसी पर एक बार फिर से बहस तेज हो गई है. बिहार के सीमांचल इलाके में एनआरसी लागू होने को लेकर सियासत तेज है. लेकिन सबकी नजरें अब टिकी हैं नीतीश कुमार के फैसले पर. क्या नीतीश कुमार इस फैसले पर केंद्र सरकार के साथ आएंगे या फिर एनआरसी बीजेपी और जेडीयू दोनों दलों के बीच टकराव का एक नया माध्यम बनेगा.
ये भी पढ़ें-

महाराष्ट्र में टूटा 'राजनीति का भ्रम'! क्या बिहार पॉलिटिक्स पर भी पड़ेगा असर?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 5:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com