24 घंटे में पटना की सड़कों से गायब हुआ जलजमाव, जनता बोली- ये नीतीश बाबू का नहीं चुनाव का जादू है साहब
Patna News in Hindi

24 घंटे में पटना की सड़कों से गायब हुआ जलजमाव, जनता बोली- ये नीतीश बाबू का नहीं चुनाव का जादू है साहब
सीएम नीतीश कुमार ने सड़कों पर निकलकर जलजमाव का जायजा लिया

गुरुवार रात भारी बारिश (Rain) होने के कारण पटना की सड़कों पर पानी जमा (Water Logging) हो गया था. लेकिन 24 घंटे के बाद ही राजवंशी नगर, राजेन्द्र नगर और मोईनुल हक स्टेडियम इलाके में लगा पानी गायब हो गया है.

  • Share this:
पटना. मानसून (Monsoon) की पहली बारिश (Rain) ने ही बिहार सरकार की सारी तैयारियों की पोल खोल कर रख दी है. लेकिन ये जानकर आप चौक जाएंगे कि महज 24 घंटे के भीतर ही पटना (Patna) की सड़कों पर लगा पानी (Water Logging) कहीं छू मंतर हो गया. कल तक जिस जलजमाव को लेकर हाहाकार मचा हुआ था. सरकार से लेकर विपक्ष तक सड़क पर उतर आए थे. आज अचानक उन्हीं सड़कों से पानी गायब हो गया. फिर चाहे वह पटना का राजवंशी नगर का इलाका हो, राजेन्द्र नगर मोहल्ला हो या फिर मोइनुल हक स्टेडियम. इनसभी जगहों से आज लगभग बारिश का पानी निकल चुका है.

सवाल ये है कि बिहार सरकार के पास रातोंरात ऐसी कौन सी तकनीक हाथ लग गई कि 24 घंटे के भीतर ही सरकार के सिस्टम ने शहर का कायाकल्प कर दिया. न्यूज 18 ने आज उन सभी जगहों की पड़ताल की जहां 24 घंटे पहले सड़कों पर लबालब पानी भरा हुआ था. लेकिन 24 घंटे बीत जाने के बाद आज की तश्वीर बेहद हैरान करने वाली थी. राजवंशी नगर से लेकर राजेन्द्र नगर और फिर मोईनुल हक स्टेडियम में लगा हुआ पानी वाकई सूख चुका था.

'ये नीतीश बाबू का नहीं चुनाव का जादू है'



हमने राजेन्द्र नगर और राजवंशी नगर मोहल्ले में रहने वालों से जब पूछा कि ये जादू कैसे हो गया तो राजेंन्द्र नगर के रहने वाले राजकिशोर प्रसाद कहते हैं कि ये नीतीश बाबू का जादू है साहब. जब सरकार के मुखिया सड़क पर उतर जाएंगे तो शहर का कायाकल्प होना ही है. नहीं तो ऐसे ही महीनों हम लोग इसी पानी में सड़ते-मरते रहते.
राजवंशी नगर के रणविजय कुमार का कहना है कि ये तो चुनाव का जादू है नहीं तो भला नीतीश कुमार और तेजस्वी कहां दिखाई पड़ते. पिछली बार इनका जादू कहां चला गया था जब हमलोग ट्यूब के सहारे दूध और सब्जी लेने जाया करते थे. ये सब चुनाव इफेक्ट है.

जनता जो बोले वही सच है लेकिन ये बात भी सच है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक दिन में असल में कमाल किया है. नगर निगम से लेकर जिला प्रशासन के अधिकारी दिन रात सड़कों से पानी निकालने और संप हाउस को चुस्त दुरुस्त करने में जुटे हैं. हालांकि ये कहना भी गलत नहीं होगा कि चुनावी साल है शायद यही कारण है कि पहली बारिश के बाद ही सरकार और विपक्ष जग गया है आखिर वोट का भी सवाल है.

अगले पांच दिन तक भारी बारिश की संभावना नहीं 

गुरुवार को पूरी रात जिस तरह से झमाझम बारिश हुई, उसी का नतीजा था कि पटना की सड़कों पर जलजमाव की स्थिति बन गई. लेकिन मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार की तरह अगले पांच दिनों में भारी बारिश होने की संभावना बहुत कम है. लेकिन इन पांच दिनों में मध्यम बारिश जरूर होती रहेगी.

मौसम वैज्ञानिक आनंद शंकर ने बताया कि पटनावासियों को अभी तत्काल डरने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि अगले पांच दिनों तक भारी बारिश होने की संभावना बहुत ही कम है. गुरुवार की रात से शुक्रवार की सुबह तक तकरीबन 85 से 90 मिली तक बारिश रिकार्ड की गई है. ऐसी भारी बारिश तत्काल होने की उम्मीद नहीं है. आनन्द शंकर ने बताया कि पिछले साल सितंबर में लगातार 3 दिनों तक भारी बारिश हुई थी. जिसमें तकरीबन 300 मिली से भी ज्यादा बारिश रिकार्ड की गई थी. जिसके चलते पटना में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई थी.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading