पटना के लोगों को सर्दी के पसंदीदा फूड खिला रहीं 'पिट्ठा वाली चाची', क्या आपने ऑर्डर किया!
Patna News in Hindi

पटना के लोगों को सर्दी के पसंदीदा फूड खिला रहीं 'पिट्ठा वाली चाची', क्या आपने ऑर्डर किया!
पटना में महिला फूड वेंडर्स की बनाई चीजों की खूब डिमांड है.

बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) में इन दिनों पिट्ठे, तिल के लड्डू आदि की सप्लाई करने वाली महिला फूड वेंडर्स (Woman Food Vendors) की खूब चर्चा हो रही है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: December 21, 2019, 11:36 PM IST
  • Share this:
पटना. सर्दी के दिनों (Winter) में बिहार के कई इलाकों में पिट्ठे (Pitthe) बनाए और खाए जाते हैं. ऐसे में जब आपको ऑर्डर पर पिट्ठे मिले तो फिर क्या कहना! बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) में इन दिनों पिट्ठे, तिल के लड्डू आदि की सप्लाई करने वाली अनोखे फूड वेंडर्स की खूब चर्चा हो रही है.  इन वेंडर्स के बनाए पिट्ठे पटनावासी खूब चाव से खा रहे हैं. जी हां, ये फूड वेंडर्स वे महिलाएं (Woman Food Vendors) हैं जो समाज की उपेक्षा और घरेलू हिंसा से पीड़ित होने के बाद खुद आत्मनिर्भर होना सीख रही हैं. इन महिलाओं की अगुवाई करती हैं कमलावती देवी, जिन्हें लोग पटना में आजकल 'पिट्ठा वाली चाची' (Pittha Wali Chahchi) के नाम से जानने लगे हैं. इनके बनाए पिट्ठे की खूब डिमांड है.

हैंडमेड प्रोडक्ट का कमाल
पिट्ठे वाली चाची की बनाई चीजों के कायल होने के पीछे मुख्य वजह है, उसका स्वाद, जो बिल्कुल घर की तरह का होता है. कमलावती देवी बताती हैं कि उन्हें ऑर्डर पर आलू, दाल, तीसी (अलसी) आदि का पिट्ठा बनाना अच्छा लगता है. लोगों को इसका स्वाद पसंद आया, तो उन्हें सब 'पिट्ठा वाली चाची' कहने लगे. कमलावती के साथ काम करने वाली बेबी देवी कहती हैं कि, 'घर की परेशानियों के कारण मुझे महिला हेल्पलाइन आना पड़ा. वहां की प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने मुझे इस संस्था के बारे में बताया, तो मैं यहां आ गई. यहां काम करने से मुझे कमाई भी होती है, साथ ही मैं आत्मनिर्भर भी हो गई हूं.'

ऑर्डर पर भी बनाती हैं खाना
महिला हेल्पलाइन में आने वाली पीड़िताओं को आत्मनिर्भर बनाने का यह काम परिहार सेवा संस्थान के जरिए किया जा रहा है. यहां की सेक्रेटरी प्रज्ञा भारती बताती हैं कि ढाई साल पहले इस फूड यूनिट की शुरुआत हुई थी. इसका मकसद घरेलू महिलाओं को रोजगार देना था. इन महिलाओं को खाना बनाना तो आता ही है, सो थोड़ी ट्रेनिंग के बाद आज ये महिलाएं पूरे पटना को खाना खिला रही हैं. ऑर्डर मिलने पर ये फूड वेंडर घर या ऑफिस में टिफिन सप्लाई करती हैं और कभी-कभी तो पार्टी-फंक्शन में भी खाना बनाती हैं. भारती ने कहा कि अगर सरकार इन महिलाओं की आर्थिक मदद करे, तो इनकी पहल और आगे जा सकती है.



ये भी पढ़ें -

NRC और CAA को क्लब करने का JDU करेगी विरोध, PM मोदी से की ये अपील

CAA पर संग्राम: RJD कार्यकर्ताओं ने की मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट, ADG बोले- बख्शे नहीं जाएंगे दोषी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज