Home /News /bihar /

World Food Day: मन व सेहत दोनों के लिए खास है बिहार का यह 'सुपरफूड', खाइए और स्वस्थ रहिए

World Food Day: मन व सेहत दोनों के लिए खास है बिहार का यह 'सुपरफूड', खाइए और स्वस्थ रहिए

बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र में मखाना का भरपूर उत्पादन होता है.

बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र में मखाना का भरपूर उत्पादन होता है.

World Food Day 2021: बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र में उगाया जाने वाला मखाना कार्बोहायड्रेट, फाइबर, पौधा आधारित प्रोटीन और मैग्नीशियम, पोटेशियम, जिंक जैसे न्यूट्रिएंट का भी अच्छा साधन है. इसमें कोलेस्ट्रॉल, फैट और सोडियम की मात्रा कम होती है और इसलिए ये एक अच्छे स्नैक्स का विकल्प है.

अधिक पढ़ें ...

पटना. वर्ल्ड फूड डे पर बात करते हैं विश्व प्रसिद्ध मखाना की जो बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र की  विशेष पहचान है.  मन को भाने वाले मखाना का मुरीद हर कोई है. देश के अलावा विदेशों में भी इसकी खासी डिमांड है. करीब 200 साल पहले से भारत में मखाना की खेती हो रही है और तब से ही ये भारत में आयुर्वेद का हिस्सा है. भारतीय आयुर्वेद के अलावा, चीन में भी पारंपरिक औषधियां तैयार करने में सालों से इसका प्रयोग किया जा रहा है. मखाना का खीर तो बनता ही है, साथ ही साथ इसको लोग घी में भूनकर भी खाते हैं. नाश्ते से से लेकर व्रत त्योहार तक में इसका उपयोग होता है इसीलिए इसे सुपरफूड कहा जाता है.

मखाना को डाइट में भी शामिल लोग करते हैं. ये सेहत और फिटनेस के लिए एक अच्छा आहार है, इसलिए न सिर्फ भारत में बल्कि दूसरे देशों में भी मखाना काफी अधिक प्रचलित है. मखाना की खेती बिहार के मधुबनी, दरभंगा, फारबिसगंज और पूर्णिया जिला में सबसे ज्यादा होती है.

मखाना के गुण के बारे में जानिए
मखाना कार्बोहायड्रेट, फाइबर, पौधा आधारित प्रोटीन और मैग्नीशियम, पोटेशियम, जिंक जैसे न्यूट्रिएंट का भी अच्छा साधन है. इसमें कोलेस्ट्रॉल, फैट और सोडियम की मात्रा कम होती है और इसलिए ये एक अच्छे स्नैक्स का विकल्प है. साथ ही, इनमें मैग्नीशियम की मात्रा ज्यादा होती है और सोडियम की कम. इसलिए हाई ब्लड प्रेशर, मोटापे और दिल से संबंधित परेशानियों से जूझ रहे लोगों को इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए.

‘एंटी एजिंग एंजाइम’ से भरपूर है मखाना
मखाना का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है और इसलिए डायबिटीज के मरीज भी डॉक्टर की सलाह पर मखाना या इससे बने उत्पाद अपनी डाइट में ले सकते हैं. इसमें एक ‘एंटी एजिंग एंजाइम’ भी होता है, जो ख़राब प्रोटीन को सही करने में मदद करता है. मखाना ग्लूटन-फ्री होता है और इसमें प्रोटीन और फाइबर की ज्यादा मात्रा होती है. मखाना में कैलरी भी कम होती है और इसीलिए वजन कम करने पर मेहनत कर रहे लोग भी इन्हें अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं.

Tags: Bihar News, Darbhanga news, Madhubani news, PATNA NEWS

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर