होम /न्यूज /बिहार /

नीतीश मंत्रिमंडल में यादव-मुस्लिम का दबदबा, जानें किस जाति को मिली कितनी सीट

नीतीश मंत्रिमंडल में यादव-मुस्लिम का दबदबा, जानें किस जाति को मिली कितनी सीट

बिहार में नीतीश कुमार की मंत्रिमंडल का विस्तार कर लिया गया है

बिहार में नीतीश कुमार की मंत्रिमंडल का विस्तार कर लिया गया है

Nitish Cabinet Caste Equation: नीतीश कुमार की सरकार में मंगलवार को 31 लोगों ने मंत्री पद की शपथ ली है. जेडीयू ने अपने सभी पुराने मंत्रियों को फिर से मंत्री बनाया हो तो वहीं जीतन राम मांझी के बेटे भी फिर से मंत्री बने हैं.

पटना. बिहार में नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल का विस्तार कर लिया गया है. मंगलवार को पटना स्थित राजभवन में नीतीश कैबिनेट के 31 नए मंत्रियों ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. 31 मंत्रियो में से सबसे अधिक 16 मंत्री जेडीयू से हैं जबकि जेडीयू कोटे से 11, कांग्रेस से दो और एक निर्दलीय तथा हम पार्टी से एक विधायक शामिल हैं. नीतीश सरकार को अगर जाति के आधार पर देखें तो सबसे अधिक 8 संख्या यादवों की है. राजद ने 7 जबकि जदयू ने 1 यादव को मंत्री पद दिया है.

नीतीश मंत्रिमंडल में जहां 8 यादवों को जगह मिली है तो दूसरे स्थान पर मुस्लिम आबादी है. इस समुदाय से 5 लोग नीतीश सरकार में मंत्री बने हैं. अनुसूचित जाति से 5, कुशवाहा समाज से 2, कुर्मी जाति से 2, राजपूत समाज से 3, भूमिहार वर्ग से 2, ब्राह्मण जाति से 1 जबकि वैश्य समाज से 1 मंत्री बनाए गए हैं. वहीं सरकार में अतिपिछड़ों की संख्या  4 है. इसमें से एक धुनिया पसमंदा मुस्लिम भी आरजेडी कोटे से मंत्री बने हैं.  दलित समुदाय को मंत्रिमंडल में 6 संख्या के साथ बड़ी हिस्सेदारी मिली है. इसमें राजद के 2, जदयू के 2 जबकि हम और कांग्रेस के एक –एक दलित मंत्री बने हैं.

भूमिहार जाति से 2 मंत्री बने हैं जिसमें राजद के कार्तिकेय सिंह और जदयू के विजय चौधरी का नाम शामिल है, जबकि ब्राह्मण समुदाय से सिर्फ 1 मंत्री जदयू से संजय झा बने हैं.  सरकार में सबसे ज्यादा यादव बिरादरी से मंत्री बनने का कारण राजद का सबसे बड़ा दल होना भी माना जा रहा है. नई सरकार में तीन महिलाओं को भी मंत्री की कुर्सी मिली है.

जेडीयू ने जहां शीला मंडल और लेसी सिंह को कैबिनेट में शामिल किया है तो राजद कोटे से अनीता देवी मंत्री बनी हैं. मंत्रिमंडल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को जोड़कर कुल 33 लोग अब शामिल हो गए हैं. नीतीश सरकार के विस्तार के बाद नीतीश कुमार ने शाम को ही कैबिनेट की बैठक बुलाई है, ऐसे में माना जा रहा है कि जल्द ही नई सरकार के मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा भी हो जाएगा.

बिहार के मंत्रियों की जातिगत स्थिति 

जदयू -विजय चौधरी- भूमिहार, बिजेंद्र यादव- यादव, अशोक चौधरी- दलित, श्रवण कुमार- कुर्मी, लेसी सिंह- राजपूत, संजय झा-ब्राह्मण, मदन सहनी- सहनी, शीला मंडल- अति पिछड़ा, सुनील कुमार- दलित, जयंत राज- कोयरी, जमा खान – अल्पसंख्यक हैं.

राजद- तेजप्रताप यादव- यादव, आलोक मेहता- कुशवाहा, सुरेन्द्र यादव- यादव, रामानंद यादव- यादव, ललित यादव- यादव, कुमार सर्वजीत- दलित, समीर महासेठ- बनिया, चन्द्रशेखर (यादव), अनीता देवी- नोनिया, जितेन्द्र कुमार राय- यादव, सुधाकर सिंह- राजपूत, कार्तिकेय सिंह – भूमिहार, इसराइल मंसूरी- अल्पसंख्यक, शमीम अहमद- अल्पसंख्यक, सुरेन्द्र राम- दलित, शहनवाज आलम अल्पसंख्यक हैं.

कांग्रेस कोटे से मंत्री बने अफाक आलम- अल्पसंख्यक हैं तो वहीं मुरारी गौतम- दलित हैं. हम पार्टी से संतोष सुमन दलित हैं जबकि निर्दलीय विधायक सुमित सिंह जो फिर से मंत्री बने हैं राजपूत समाज से हैं.

Tags: Bihar Government, Bihar News

अगली ख़बर