पुलिसिंग के साथ-साथ एक बेहतरीन कलाकार के रूप में भी है पटना पुलिस के इस अधिकारी की पहचान

Sanjay Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 15, 2015, 2:05 PM IST
पुलिसिंग के साथ-साथ एक बेहतरीन कलाकार के रूप में भी है पटना पुलिस के इस अधिकारी की पहचान
Sanjay Kumar
Sanjay Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 15, 2015, 2:05 PM IST
आम तौर पर पुलिस महकमा एक ऐसा महकमा माना जाता है जहां कांस्टेबल से लेकर अधिकारी तक को अपने और किसी शौक के लिए वक्त काफी कम ही मिलता है. लेकिन हम आपको बता रहे हैं बिहार पुलिस के एक ऐसे अधिकारी के बारे में जो पुलिसिंग के साथ-साथ अपने हुनर के लिए भी कड़ी मेहनत करते हैं.

मेहनत के साथ-साथ ये अफसर अपनी हुनर को मूर्त रूप देने में जुटे हैं और पिछले 20 वर्षों से ड्रिफ्टवुड आर्ट की साधना में लगे हैं. ये अधिकारी है पटना के ट्रैफिक एसपी प्राणतोष कुमार दास. इनका सपना है ड्रिफ्टवुड आर्ट का एक म्यूजियम बनाना जो विश्वस्तरीय हो.

पटना के गांधी मैदान में चल रहे पुस्तक मेले में पटना के ट्रैफिक एसपी प्राणतोष दास की ड्रिफ्टवुड आर्ट प्रदर्शनी लोगों को बरबस ही अपनी ओर खीच रही है. ड्रिफ्ट यानि बहती हुई और बेकार लकड़ियो को इकठ्ठा कर के ट्रैफिक एसपी पिछले 20 वर्षों से कठिन साधना के बल पर उन्हें अदभुत और आकर्षक कलाकृतियो के रुप में इकट्ठा कर रहे हैं.

बात चाहे एलियन की हो या फिर डाईंग बर्ड, आक्टोपस मैमथ या फिर पॉरक्यूपाईन की ये कलाकृतियां लोगो के लिए कौतूहल का ‌विषय बना हुआ है. मूल रूप से प्राकृतिक धरोहर के रूप में संजोकर रखी जाने वाली ये कलाकृतियां भारत में बिहार के अलावा केवल केरला में ही मिलती हैं.

ट्रैफिक एसपी लोगों के मिल रहे रिस्पांस से बेहद उत्साहित है और भविष्य में उनकी योजना ड्रिफ्टवुड आर्ट का एक विश्वस्तरीय पार्क या म्यूजियम बनाने की है. इस ड्रिफ्टवूड आर्ट से जुड़ी कलाकृतियों को देखने वाले लोग और उनके ही महकमे के अधिकारी भी एसपी के इस हुनर से काफी प्रभावित हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर