अपना शहर चुनें

States

बांका: तीन साल पहले अपहृत बच्ची को भीख मांगते पुलिस ने किया बरामद, परिजनों को सौंपा

बांका पुलिस ने बच्ची को उसके परिजनों को सौंप दिया है.
बांका पुलिस ने बच्ची को उसके परिजनों को सौंप दिया है.

तीन साल पहले अपह्रत बच्ची को भागलपुर पुलिस (Bhagalpur Police) ने बरामद किया है.साथ ही पुलिस (Police) ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. भागलपुर पुलिस ने बच्ची को बांका पुलिस (Banka Police) को सौंप दिया है, जिसके बाद वह अपने परिजनों तक पहुंच गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 10, 2021, 10:17 PM IST
  • Share this:
बांका. आज से तीन साल पहले अपह्रत (Kidnapped) एक बच्ची को (Girl Child) पुलिस (Police) ने भीख मांगते हुए बरामद किया है. बच्ची की बरामदगी के बाद पुलिस ने परिजनों के उसके बारे में सूचना दी तो घरवालों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा है. सभी पुलिस का धन्यवाद करते नजर आ रहे हैं. बच्ची को खोजने का काम भागलपुर (Bhagalpur) जिले की जगदीशपुर पुलिस ने किया है. पुलिस  ने आज बच्ची को बांका पुलिस (Banka Police) को सौंप दिया है.

पुलिस के अनुसार तीन वर्ष पूर्व दिलीप पासवान अमरपुर के गढेल से अपनी पत्नी और बेटी के साथ अपनी बहन के साथ बांका के विजय नगर आये थे. इसी बीच दिलीप पासवान बाजार कुछ काम से गये थे तभी बच्चों के साथ उसकी बेटी घर के बाहर खेल रही थी इसी बीच वह लापता हो गई. बाद में काफी दिनों तक खोजबीन करने के बाद भी वह नहीं मिली. इसी बीच बच्ची की बरामदगी को लेकर गढ़ेल के लालू हरिजन ने पैसे की मांग की थी, जिसको लेकर दिलीप ने आठ हज़ार रुपए भी दिया था, जिसे बाद में शिकायत पर बांका पुलिस ने लालू हरिजन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, जो पिछले तीन वर्षों से जेल की सलाखों के पीछे है.

रिश्तेदार ने बच्ची को ट्रेन में भीख मांगने की दी थी सूचना

लड़की के पिता दिलीप हरिजन ने बताया कि शुक्रवार को मेरा एक रिश्तेदार ट्रेन से सफर कर रहा था, जिसने बच्ची को भीख मांगते देखा और पहचान करने पर सूचना दी. इसके बाद पिता की सूचना पर जगदीशपुर पुलिस ने बच्ची को बालेश चौधरी के पास से बरामद कर थाने लाई, जिसे आज बांका पुलिस को सौंप दिया गया. बांका पुलिस बालेश चौधरी से पूछताछ कर रही है, जो तीन वर्ष पूर्व बच्ची को सड़क पर अकेला मिलने की बात कहते हुए अपने साथ ले जाने की बात कह रहा है. वहीं बच्ची से भीख मंगवाने की बात से इनकार कर रहा है. अब बांका पुलिस ने बच्ची के माता-पिता को थाने में बुलाया, जिन्होंने अपनी बच्ची को पहचान लिया है. यही नहीं बच्ची के लापता होने और कुछ लोगों द्वारा धमकी देने के बाद से बच्ची के माता-पिता अपना घर छोड़कर रजौन अपने ससुराल में रह रहे हैं.



इस मामले में बांका एसडीपीओ दिनेश चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि तीन वर्ष पूर्व बच्ची लापता हुई थी जिसको लेकर बांका थाने में मामला दर्ज करते हुए परिजन की शिकायत पर एक युवक लालू हरिजन को जेल में होने की बात कह रहे हैं. अब बच्ची के बरामद होने के बाद से मामले ने नया मोड़ ले लिया है. इस बाबत सोमवार को दंडाधिकारी के सामने बच्ची और उसके माता-पिता के सामने बयान दर्ज करवाते हुए आगे की कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज