सीमांचल से एक साल में गायब हुईं 180 लड़कियां, VHP ने पुलिस की तहकीकात पर उठाए सवाल


सीमांचल में लव-जिहाद के मामले में विहिप ने पुलिस को घेरा.
सीमांचल में लव-जिहाद के मामले में विहिप ने पुलिस को घेरा.

विश्व हिन्दू परिषद (Vishva Hindu Parishad) का आरोप है कि पूर्णिया प्रमंडल से लव-जिहाद (Love-Jihad) के कारण पिछले एक साल में 180 लड़कियां गायब हुई हैं. जबकि इन मामलों को लेकर VHP ने पुलिस की पड़ताल पर सवाल उठाए हैं.

  • Share this:
पूर्णिया. सीमांचल (Seemanchal) में लव-जिहाद (Love-Jihad) को विश्व हिन्दू परिषद (Vishva Hindu Parishad) अपना खास मुद्दा मानता है, लिहाजा उसके नेता और कार्यकर्ता लगातार ऐसे मामलों की तहकीकात करते हैं और उनका सही समाधान चाहते हैं. जबकि पुलिस (Police) इसे कानून के हिसाब से प्रेम-प्रसंग में उचित-अनुचित का ख्‍याल और पड़ताल कर मामलों में कार्रवाई करती है. ऐसे मामले चूंकि दो धर्मों के लोगों के बीच विवाह संबंधों की वैधता और अवैधता से जुड़े होते हैं. इस कारण वह काफी सतर्कता रखना पसंद करती है.

सीमांचल में विहिप का ये रहता है लक्ष्‍य
विश्व हिन्दू परिषद के स्थानीय नेता पवन कुमार पोद्दार के मुताबिक सीमांचल में लव-जिहाद को लेकर कुछ खास लोग जो एक संगठित गिरोह के तौर पर काम करते हैं. वे मुस्लिम समाज के लड़कों-पुरुषों के साथ हिन्दू समाज की लड़कियों और महिलाओं को भगाने और उनसे शादी करने अथवा धर्मांतरण कराने का काम करते हैं. हालांकि लव-जिहाद पर विहिप का यह लाया गया मामला राष्‍ट्रीय स्तर का है और वह ऐसे मामलों को संगठित और सुनियोजित अपराध कहती रही है.

विहिप ने आईजी से कार्रवाई की मांग
सीमांचल में विहिप के नेताओं ने पूर्णिया के आईजी विनोद कुमार को लव-जिहाद के दो पीड़ि‍तों के उदाहरण के साथ ऐसे मामलों में कार्रवाई करने की मांग की है. पहला मामला डगरुआ थाना क्षेत्र के कांड संख्या 200/19 का है, जिसके तहत लसनपुर गांव पूरण मंडल की बेटी तेतरी कुमारी और गांव के ही युवक सुफियान के बीच का मामला जुड़ा है. इस मामले में पूरण मंडल की ओर से सुफियान पर तेतरी के अपहरण का मामला दर्ज कराया गया है. जबकि दूसरा मामला मीरगंमज थाना के कांड संख्या 117/17 का है, जिसमें अरविंद सिंह ने अपनी पत्नी किरण देवी को गांव के ही अकबर मोहम्मद द्वारा भगा लिए जाने की शिकायत की गई है. दोनों मामले में अभी पुलिस की पूरी पड़ताल बाकी है और विहिप के प्रतिनिधि चाहते हैं कि पुलिस इन मामलों की वाजिब पड़ताल कर यह साफ करे कि मामला आखिर लव-जिहाद जैसे संगठित अपराध से जुड़ा है या नहीं. जबकि पुलिस के सामने यह अड़चन है कि वह दो धर्मों के बीच के ऐसे मामलों को कानूनी और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के रूप में इसे जायज पाती है, लिहाजा यहां कार्रवाई करना उचित नहीं है. चूंकि ज्यादातर मामले प्रथम दृष्टया कानूनन सही होते हैं और व्यक्तिगत आजादी से जुड़े होते हैं, इसलिए पुलिस किसी समुदाय विशेष की आस्था के मामले में कुछ भी नहीं कर पाती, लेकिन जो दो मामले विहिप ने पुलिस के संज्ञान में लाए हैं. उन मामलों के पीछे का सच क्या है यह साफ होना अभी बाकी है.



आईजी ने कही ये बात
इधर पूर्णिया जोन के आईजी विनोद कुमार इस मामले में विशेष कुछ भी बताने और लव-जिहाद को स्वीकारने या अस्वीकारने से परहेज कर रहे हैं. हालांकि वे मानते हैं कि ऐसे मामलों में जो कानूनन कार्रवाई होनी चाहिए. उसके प्रावधान के हिसाब से ही पुलिस जांच पड़ताल होती है.
इधर विहिप के पूर्णिया जिलाध्यक्ष पवन पोद्दार का कहना है कि पिछले एक साल में पूर्णिया प्रमंडल से लव-जिहाद के कारण 180 लडकियां गायब हैं. यही नहीं उनका कोई पता न तो परिजनों को चल रहा है न पुलिस को कोई सुराग लगा है. घर से भागी या गायब हुईं लड़कियों और महिलाओं के मामले में ज्यादातर आरोपी स्पष्ट होते हैं. जबकि कुछ मामलों में ही अज्ञात स्थिति होती है.

ये भी पढ़ें- अपनी ही सरकार के फैसले के विरोध में उतरे बिहार के मंत्री, RJD ने किया समर्थन

नक्सल प्रभावित जिले के इन दो एथलीटों ने नेशनल चैंपियनशिप में जीता गोल्ड मेडल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज