लाइव टीवी

पूर्णिया में खुला बिहार का पहला बाल मित्र थाना, ये है खासियत

KUMAR PRAVIN | News18 Bihar
Updated: November 27, 2019, 7:40 PM IST
पूर्णिया में खुला बिहार का पहला बाल मित्र थाना, ये है खासियत
बाल मित्र थाने में प्ले स्कूल के समान होंगी सुविधाएं.

पूर्णिया में बिहार (Bihar) का पहला बाल मित्र थाना (Bal Mitra police station) खुल गया है. इस थाने में प्ले स्कूल जैसी सुविधाएं होगी और यहां बच्चे पुलिस से डरने के बजाए उनके साथ दोस्त की तरह अपनी बात रख पाएंगे.

  • Share this:
पूर्णिया. पूर्णिया में बिहार (Bihar) का पहला बाल मित्र थाना (Bal Mitra police station) खुला है. थाना में प्ले स्कूल जैसी होगी सुविधा और यहां बच्चे पुलिस अंकल से डरेंगे नहीं बल्कि उनके साथ दोस्त की तरह अपनी बात रख पाएंगे. यूनिसेफ (UNICEF) की मदद से सदर थाने में बिहार का पहला बाल मित्र थाना खोला गया है. जबकि इसकी टैग लाइन है 'बच्चों का अपना थाना.' यूनिसेफ के कंट्री हेड डॉ. यास्मीन अली हक और पूर्णिया के एसपी विशाल शर्मा (SP Vishal Sharma) ने मिलकर थाने का उद्घाटन किया.

इस वजह से खास होगा बच्चों का अपना थाना
जी हां, पूर्णिया के सदर थाने में खुला है बिहार का पहला बाल मित्र थाना. इस थाने की खासियत है कि यहां की दीवारों पर बच्चों की पसंद के कार्टून और चित्रकारी की गई है. एसपी विशाल शर्मा और यूनिसेफ के भारत के हेड डॉ. यास्मीन अली हक ने इसका उद्घाटन किया. एसपी ने कहा कि यह बिहार का पहला बाल मित्र थाना है, जहां बच्चे डरेंगे नहीं बल्कि अपनी बात सहजता से रख पाएंगे. इसके अलावा यूनिसेफ की मदद से जिले में पांच बाल मित्र थाना खोले जाएंगे. यह थाना बच्चों को प्ले स्कूल के तरह महसूस होगा. जबकि यहां थानेदार भी सिविल ड्रेस में रहेंगे.

Human trading, child crime, child friend police station, मानव व्यापार, बाल अपराध, बाल मित्र थाना
बच्चे खुलकर रख पाएंगे अपनी बात.


यूनिसेफ प्रतिनिधि ने कही ये बात
यूनिसेफ के भारत के मुख्य प्रतिनिधि डॉ. यास्मीन अली हक ने कहा कि इस थाने के खुलने से बच्चों को काफी सुविधाएं मिलेंगी. इससे बाल मजदूरी और मानव व्यापार में भी कमी आएगी. उन्होंने कहा कि इस इलाके में यूनिसेफ द्वारा कई तरह के प्रोग्राम चलाए जा रहे हैं, जो कि काफी अच्‍छे साबित हो रहे हैं.

पूर्णिया पुलिस की ये है कवायद
Loading...

यूनिसेफ और पूर्णिया पुलिस के सौजन्य से जिले में बिहार का पहला बाल मित्र थाना खुला है. इसके अलावा जिले में पांच और बाल मित्र थाना खोलने की कवायद चल रही है. इन थानों में बिगड़ैल बच्चों की काउंसलिंग कर उन्हें समाज की मुख्यधारा से भी जोड़ने का प्रयास होगा. जबकि इसके लिए चाइल्ड लाइन का भी सहयोग लिया जायेगा.

बच्‍चे हुए खुश
छोटे-छोटे बच्चे भी बाल मित्र थाने को देखकर काफी खुश हुए. जबकि थाने के रंग रोगन और वॉल पेंटिंग उन्हें काफी अच्‍छी लगी. जबकि मौके पर मौजूद बच्‍ची (पूजा कुमारी) ने कहा कि पहले वे लोग पुलिस का नाम सुनकर डरते थे, लेकिन अब वे पुलिस अंकल के पास अपनी बात अच्छे से रख पाएंगे.

ये भी पढ़ें-
गया की गौशाला बनी मिसाल, अब गाय के गोबर से बनी लकड़ी से होगा दाह संस्‍कार

20 साल तक 'आतंक' फैलाने वाले नक्‍सली बजरंगी की मौत, सरेंडर के बाद 11 साल लड़ी ये लड़ाई

रोजाना 'दहशत' के साए में स्‍कूल जाते हैं छात्र, एक-दूसरे की जिम्‍मेदारी बता टालमटोल कर रहा है प्रशासन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पूर्णिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 7:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...