बिहार: इस जिले में खेती-किसानी के सामानों की बिक्री तीन दिनों से है बंद, जानें क्या है मामला
Purnia News in Hindi

बिहार: इस जिले में खेती-किसानी के सामानों की बिक्री तीन दिनों से है बंद, जानें क्या है मामला
पूर्णिया जिले में कृषि अधिकारियों और कृषि व्यवसायियों के बीच गतिरोध बरकरार.

हड़ताल के कारण बीजों और कीटनाशकों और खेती से जुडे औजारों और जरूरी सामानों की खरीद किसान नहीं कर पा रहे हैं. जिला कृषि पदाधिकारी (District Agricultural Officer) ने व्यवसायियों के इस कदम को आवश्यक वस्तु अधिनियम का उल्लंघन बताया है

  • Share this:
पूर्णिया. इस लॉकडाउन (Lockdown) के बीच भी जहां खेती के काम और इससे जुडे बाजार कहीं भी बंद नहीं हुए वहीं बिहार के पूर्णिया जिले में पिछले पांच दिनों से कृषि बाजार की सारी दुकानें बंद हैं. कारण है स्थानीय प्रशासन और कृषि व्यवसायियों के बीच तनातनी. दुकानदार हड़ताल से हटने का नाम नहीं ले रहे तो कृषि विभाग के अधिकारी भी एक्शन लेने की बात से पीछे नही हट रहे. बता दें कि पूर्णिया (Purnia) में कृषि विभाग ने प्रशासन के साथ मिलकर कृषि व्यवसायियों की शिकायतों पर जांच शुरू की है और दर्जनभर कृषि दुकानदारों पर हफ्तेभर पहले प्राथमिकी दर्ज की है. इस मामले में दो कृषि सामग्री विक्रेता गिरफ्तार भी हुए हैं. इसी कार्रवाई के विरोध में कृषि दुकानदार जिलेभर में दुकानें बंद कर विरोध में हैं.

हड़ताल के कारण बीजों और कीटनाशकों और खेती से जुडे औजारों और जरूरी सामानों की खरीद किसान नहीं कर पा रहे हैं. जिला कृषि पदाधिकारी ने व्यवसायियों के इस कदम को आवश्यक वस्तु अधिनियम का उल्लंघन बताया है और आगे भी कार्रवाई जारी रखने के संकेत दिये हैं. उधर कृषि सामग्री विक्रेताओं के संघ ने कृषि अधिकारियों पर मनमानी करने का आरोप लगाते हुए कारोबार में परेशानी खड़ी करने की शिकायत की है.

इधर संघ के रजिस्टर्ड नहीं होने की बात कहते हुए जिला कृषि पदाधिकारी शंकर झा ने दुकानदारों की हडताल को बगैर पूर्व सूचना के करने को गैर कानूनी करार दिया है. वहीं डीडीसी मनोज कुमार ने जल्द ही मामले को सलटा लेने की बात कही है.



जिला कृषि पदाधिकारी ने संकेत दिया है कि कृषि सामग्रियों की दुकाने जिलेभर मेंं बंद रहने से किसानों को नुकसान हो रहा है और ऐसी हालत में विभाग अभियान चलाकर विभाग बंद दुकानों का निरीक्षण करेगी और विक्रेताओं के लाइसेंस जब्त करते हुए इनपर आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्रवाई की जायेगी.



ये भी पढ़ें

बिहार में BJP डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कराना चाहती है चुनाव!

Lockdown: 30 मजदूरों ने 2.10 लाख चंदा जुटाया और चेन्नई से बस लेकर पहुंच गए बिहार, खाया भरपेट खाना
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading