मझवा अग्निकांडः दहशत में हैं महादलित परिवार, 5 लोगों की गिरफ्तारी के बाद भी तनाव, गांव में पुलिस तैनात

पूर्णिया के बायसी के मझवा गांव में तनाव के बाद पुलिस की तैनाती.

पूर्णिया के बायसी के मझवा गांव में तनाव के बाद पुलिस की तैनाती.

पूर्णिया के बायसी स्थित मझवा गांव में महादलितों के घर में भीषण अग्निकांड और आपराधिक घटनाओं के बाद तनाव के मद्देनजर पुलिस तैनात. लापरवाही बरतने को लेकर एसपी ने थाना प्रभारी को सस्पेंड किया. पीड़ितों की मदद में जुटा प्रशासन.

  • Share this:

पूर्णिया. बायसी थाना के मझवा गांव में 19 मई को महादलितों के साथ हुई दरिंदगी की घटना के बाद से अभी भी गांव के लोग दहशत के साए में जी रहे हैं. हालांकि मौके पर तीन कंपनी पुलिसबल अब भी तैनात है. साथ ही स्थाई पुलिस पिकेट बनाने की भी बात की जा रही है, लेकिन लोग उस घटना को भूल नहीं पा रहे हैं. वही इस मामले में पूर्णिया के एसपी दयाशंकर ने बायसी थानाध्यक्ष अमित कुमार को घटना में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर लाइन हाजिर कर दिया है. एसपी ने कहा कि आगजनी कांड में अब तक 5 लोगों की गिरफ्तारी की गई है.

एसपी ने बताया कि बायसी थाने में अब धमदाहा के सर्किल इंस्पेक्टर सुनील कुमार सुमन को प्रभारी बनाया गया है. उन्होंने कहा कि इस कांड को लेकर तीन अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज कराई गई है, जिसमें पीड़ित परिजनों ने 60 नामजद और 100 अज्ञात के खिलाफ शिकायत दी है. वहीं दूसरा मामला चौकीदार ने 6 नामजद और 100 अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराया है. एसपी ने कहा कि जिस बच्चे के गायब होने की सूचना  मिली थी, वह गायब नहीं हुआ था, बल्कि परिजनों ने झूठ बोला था. गांव में लोग भयमुक्त होकर रह सकें, इसके लिए पुलिस की तैनाती की गई है.

गौरतलब है कि मझवा गांव में 19 मई की रात को एक समुदाय विशेष के सैकड़ों लोगों ने महादलितों के 13 घरों में पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी थी. मौके पर मौजूद चौकीदार दिनेश को भी पीटा गया और उनकी बाइक जला दी गई. वहीं महिलाओं के साथ छेड़खानी और मारपीट भी की गई थी.

मामले को लेकर पूर्णिया के डीएम राहुल कुमार ने कहा कि घटना में मारे गए चौकीदार नेवालाल राय के परिजन को चार लाख रुपया मुआवजा दिया गया है. शेष चार लाख राशि चार्जशीट के बाद दी जाएगी. अन्य पीड़ितों को भी सरकारी नियम के अनुसार मुआवजा राशि दी गई है. डीएम ने कहा कि गांव में लोगों के खाने-पीने के लिए भी कम्युनिटी किचन की व्यवस्था की गई है. इसके अलावा पीड़ितों के लिए जमीन चिह्नित कर प्रधानमंत्री आवास बनाने के निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज