लाइव टीवी

घर में घुसकर बुजुर्ग दंपति की हत्या, गाय की मदद से हत्यारे तक जा पहुंची पुलिस

Rajendra Pathak | News18 Bihar
Updated: November 20, 2019, 9:42 AM IST
घर में घुसकर बुजुर्ग दंपति की हत्या, गाय की मदद से हत्यारे तक जा पहुंची पुलिस
पूर्णिय में हुई हत्या की घटना का खुलासा करते एसपी

पूर्णिया में हत्या की ये वारदात अगस्त महीने में हुई थी. दंपति की हत्या करने के बाद आरोपी ने शव को बाढ़ के पानी में फेंक दिया था.

  • Share this:
पूर्णिया. बिहार के पूर्णिया में जमीन की लालच में एक शख्स ने वृद्ध दंपति की निर्मम तरीके से हत्या (Brutal) कर दी. पुलिस ने हत्या के कई दिनों के बाद इस मामले का खुलासा किया है. पूर्णिया (Purnia) के अजीत भगत नामक शख्स मरंगा थाने के लालगंज गांव के एक बुजुर्ग दंपति की जमीन में लीज पर बकरी पालन करता था और उसकी लालच लीज की जमीन दखल करने की थी. जब वह इस काम में बुजुर्ग दंपति से मिला जुलाकर कराने में वो सफल नहीं हुआ तो लीज नवीनीकरण की अवधि के एक महीने पूर्व ही दोनों की घर में बारी बारी से गला घोंट कर हत्या कर दी.

घर में अकेले रहते थे वृद्ध दंपति

घटना पूर्णिया जिले के मरंगा थाना क्षेत्र के लालगंज गांव की है जहां अपने घर में अकेले दिनेश्वर प्रसाद सिन्हा नामक एक बीमार बुजुर्ग दंपति रहते थे. उनकी कुछ जमीन थी जिसे लीज पर लेकर पिछले कई सालों से पूर्णिया शहर के महबूब खां टोला का युवक अजीत भगत को बकरी पालन करता था. दंपति की विवाहित लड़कियां थीं और वो उन्हें अपनी संपत्ति सौंपना चाहते थे. अजीत ने दोनों को कई तरह से बहलाया फुसलाया कि वो लीज वाली जमीन उसके हाथों बेच दें पर दंपति इसके लिए तैयार नहीं थे तो युवक ने उन्हें हडकाया और डराया भी.

लीज की जमीन को लेकर था विवाद

दंपति ने कहा कि सितंबर 2019 में वे उसकी लीज की जमीन का नवीनीकरण भी अब नही करेंगे. हत्यारोपी युवक को यह बात गड़ गई थी और उसने जमीन की लालच में खुद को अंधा करते हुए अगस्त महीने में ही पहले वृद्धा की हत्या घर में कर दी और बाद में गांव में गये वृद्ध को भी यह कहकर बुलाया कि उनकी पत्नी उन्हे घर बुला रही है और वे जैसे ही घर पहुंचे उनकी भी हत्या कर डाली. बाद में दोनों लाशों को बोरे में कसकर बेलौरी सौरा नदी के पुल के नीचे पानी में तब फेंक दिया जब नदी में बाढ़ आयी थी.

हत्या के बाद आरोपी ने हटाया था गाय-बछड़ा

बुजुर्ग दंपति के पास एक गाय और बछ़डा भी था. जब दोनों घर से बाहर जाते थे तो गाय-बछड़े को किसी के यहां दे कर जाते थे. बुजुर्गों के घर कोई न जाए और हत्या की भनक किसी को न लगने देने की साजिश रचते हुए हत्यारोपी ने गाय और बछड़े को भी वहां से घटना के तुरंत बाद हटा लिया और अपने यहां नहीं रख गाय और बछड़े को पूर्णिया शहर के एक दूसरे युवक नन्हकू के माध्यम से रखवा दिया. बाद में गाय की बरामदगी के बाद दूसरे युवक नन्हकू ने अजित भगत की कारस्तानी पुलिस के सामने उगल दी और सरकारी गवाह बनकर मामले की उदभेदन करा दिया.
Loading...

नहीं मिल सकी लाश

नन्हकू ने पुलिस को यह भी बताया कि हत्यारोपी अजीत उसका सिमकार्ड अपने पास फुसला कर रखता था और बाद में उसे फंसाने की धमकी देने लगा था साथ ही कुछ पैसों का प्रलोभन भी. पूरे मामले में गाय और बछड़े की बरामदगी और नन्हकू के पुलिस गवाह बनने से इस अमानवीय घटना का पुलिस उदभेदन कर सकी. पुलिस ने इस हत्याकांड के हत्यारोपी को गिरफ्तार कर आज जेल भेज दिया है लेकिन पुलिस अगस्त महीने में हुई इस घटना में मारे गए दंपति जिनकी लाश बोरे में बंद कर नदी में फेंक दी गई थी को बरामद नहीं कर सके हैं. एसपी विशाल शर्मा ने कहा कि शव से जुड़े साक्ष्य के लिए पुलिस ने एनडीआरएफ के साथ संयुक्त खोज कई बार की थी पर बरसाती वक्त होने की वजह से अब दोनों की लाश या उसका कोई अवशेष मिल पाना मुश्किल हो गया है.

ये भी पढ़ें- अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर तिरंगा लहराने वाली ये बेटी अब मांग रही है मदद

ये भी पढ़ें- खेलने के दौरान एक साथ पांच बच्चियों का हुआ था अपहरण, दो की मिली लाश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पूर्णिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 9:18 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...