लाइव टीवी

Ayodhya Verdict: राम, रामायण, रामनगर और रामलला विराजमान का सुयोग

News18 Bihar
Updated: November 9, 2019, 7:32 PM IST
Ayodhya Verdict: राम, रामायण, रामनगर और रामलला विराजमान का सुयोग
पिछले 24 सालों से पूर्णिया के रामनगर मुहल्ले में कार्तिक महीने में अखंड रामायण पाठ आयोजित होता है. इस दौरान उन्हें रामलला विराजमान को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सुनने को मिला.

रामनगर के रामायण प्रेमियों को अखंड रामायण पाठ (Akhand Ramayan Path) करते समय ही राम मंदिर निर्माण और रामलला विराजमान के पक्ष में फैसला सुनने को मिला.

  • Share this:
पूर्णिया. सुयोग और संयोग को सुखद माना जाता है और धार्मिक आस्था से जुड़े लोगों के लिए यह काफी महत्व का विषय होता है. पूर्णिया (Purnia) के रामनगर (Ramnagar) मुहल्ले में पिछले 24 सालों से कार्तिक महीने में अखंड रामायण पाठ (Akhand Ramayan Path) करने वाले लोगों के कार्यक्रम का सालाना दिन आज उनके लिए ऐतिहासिक बन गया. उन्हें आज के दिन के सुयोग के बारे में कोई पता नहीं था पर यह सुयोग आज उन्हें मिला. संयोग ऐसा कि एक ओर जहां राम (Ram) और रामायण (Ramayan) के भक्त अपने राम प्रेम में लगे थे, वहीं रामलला विराजमान को लेकर समय ऐतिहासिक हो रहा था. यह स्थिति अपने आप में विशेष थी.

बता दें कि शनिवार (9 नवंबर) को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अयोध्या के मुद्दे (Ayodhya Dispute) पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण का रास्ता साफ कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या की विवादित जमीन पर रामलला विराजमान का हक माना है.

रामनगर के रामायण प्रेमियों को रामायण गाते वक्त ही राम मंदिर निर्माण और रामलला विराजमान के पक्ष में फैसला सुनने को मिला और वे काफी आनंदित हो उठे. संयोगात्मक रुप से देखा जाए तो आयोजकों के लिए यह एक विशेष अवसर और सुयोग के रूप में था. आयोजक राम, जानकी, लखन और हनुमान की प्रतिमा अपने पंडाल में स्थापित कर सुबह 7 बजे से ही रामचरितमानस का सस्वर पाठ कर रहे थे. रामनगर मुहल्ला रामायण पाठ सुन रहा था और उसी बीच रामलला विराजमान के पक्ष में उन्हें अंतिम बहुप्रतीक्षित और सुखद निर्णय सुनने का सुखद संयोग प्राप्त हुआ.

रामनगर की इस रामकथा मंडली के अखिलेश सिंह,संजय सिंह और प्राणमोहन झा कहते हैं कि उन्हें राम को लेकर उन्हें जो सुखद संयोग मिला, वह अद्भुत है और देश में रामायण प्रेमियों के लिए खास है.

बताते चलें कि पिछले 24 सालों से पूर्णिया के रामनगर मुहल्ले में साप्ताहिक रामायण मंडली चलती है जो हर रविवार को तो घर-घर रामायण पाठ करती है. कार्तिक महीने में आपना वार्षिकोत्सव करके अखंड रामायण पाठ आयोजित होता है. यह कार्यक्रम और आज का दिन आयोजकों ने काफी सुखद माना और इसे रामकृपा का सुखद संयोग करार दिया है.

(रिपोर्ट- राजेंद्र पाठक)

ये भी पढ़ें- 
Loading...

Ayodhya Verdict: सभी को मान्य होना चाहिए सुप्रीम कोर्ट का फैसला- नीतीश कुमार

Ayodhya Verdict: फैसले से ठीक पहले लालू प्रसाद ने किया ट्वीट, लिखी ये बात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पूर्णिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 7:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...