होम /न्यूज /बिहार /रिटायरमेंट से पहले सिविल सर्जन ने परिवार को किया मलामाल, बेटा-बहू, पत्नी को दिया टेंडर

रिटायरमेंट से पहले सिविल सर्जन ने परिवार को किया मलामाल, बेटा-बहू, पत्नी को दिया टेंडर

पूर्णिया के सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा

पूर्णिया के सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा

सिविल सर्जन की इस करतूत का खुलासा जांच में हुआ. दरअसल आरोपी सिविल सर्जन तीन दिन बाद यानी 30 सितंबर को ही रिटायर होने वा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सिविल सर्जन द्वारा धांधली बरते जाने का ये मामला पूर्णिया जिले का है
घोटाले का खुलासा पूर्णिया के प्रमंडलीय आयुक्त गोरखनाथ की जांच में हुआ
सिविल सर्जन इसी महीने की 30 तारीख को रिटायर हो रहे हैं

पूर्णिया. पूर्णिया के सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार का एक बड़ा मामला सामने आया है. पूर्णिया के प्रमंडलीय आयुक्त गोरखनाथ ने अपनी जांच में पाया कि सिविल सर्जन ने अपने बेटे, पत्नी, बहू समेत कई रिश्तेदारों के नाम से कंपनी बनाकर उन्हें स्वास्थ्य विभाग में  कई चीजों का टेंडर दिया और लाखों रुपए की दवा- उपस्कर की खरीदारी की गई है. प्रमंडलीय आयुक्त गोरखनाथ ने इस मामले में कहा कि 21 सितंबर को वह स्वास्थ्य विभाग की जांच के लिए सिविल सर्जन कार्यालय गए हुए थे.

वहां उसने कई दस्तावेजों की जांच की. इसी दौरान दवाई खरीदारी और बाइक एंबुलेंस से संबंधित निविदा की जांच की गई तो पाया कि सिविल सर्जन के पुत्र अमन वर्मा के नाम से बनाई गई एक कंपनी क्लोरिश डाटा इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को बाइक एंबुलेंस की ट्रॉली खरीदने और मेंटेनेंस का ठेका दिया गया. इस संविदा में मात्र दो ही कंपनियां शामिल हुई थीं. इसके अलावा सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा ने अपनी पत्नी, बहू समेत कई रिश्तेदारों के नाम से कंपनी बनाकर स्वास्थ्य विभाग में बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितता की है.

आयुक्त ने कहा कि उन्होंने डीएम को तीन सदस्यीय जांच कमेटी बनाकर सिविल सर्जन कार्यालय में हुए वित्तीय अनियमितता की जांच कर तीन दिनों के अंदर रिपोर्ट देने को कहा है. अगर जांच में गड़बड़ी पाई गई तो उसमें कार्रवाई और प्राथमिकी भी हो सकती है. जानकारी के अनुसार इसके अलावा प्रीति इंटरप्राइजेज नाम की कंपनी को बाढ़ के समय भारी मात्रा में लाइम पाउडर और हैलोजन टेबलेट खरीदने का ठेका दिया गया था. यह कंपनी भी सर्जन के रिश्तेदार की बताई जा रही है. सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा पर कई गंभीर आरोप लगे हैं. बहरहाल देखना है कि जांच के बाद क्या मामला सामने आता है.

जब इस बाबत सिविल सर्जन से बात करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने ना तो फोन उठाया और घर में होकर भी बहाना बना दिया कि वह घर में नहीं है. गौरतलब है कि इसी महीने के 30 सितंबर को ही सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा रिटायर होने वाले हैं. वह पिछले दो सालों से पूर्णिया में सिविल सर्जन के पद पर पदस्थापित हैं.

Tags: Bihar News, Purnia news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें