10-12 लाख रुपए में एके-47, पेमेंट हवाला के जरिये, कुछ इस तरह होती है बिहार में आर्म्स की डिलीवरी

पूर्णिया से पहले बिहार के मुंगेर से भी एके-47 रायफल की खेप मिली थी जिसकी तफ्तीश अभी भी चल रही है.

News18 Bihar
Updated: February 13, 2019, 3:46 PM IST
10-12 लाख रुपए में एके-47, पेमेंट हवाला के जरिये, कुछ इस तरह होती है बिहार में आर्म्स की डिलीवरी
बरामद हथियारों के साथ एसपी
News18 Bihar
Updated: February 13, 2019, 3:46 PM IST
बिहार में हथियार तस्करी के नए रैकेट का खुलासा हुआ है. हथियार सप्लायरों का ये रैकेट बिहार में नक्सलियों से लेकर रसूखदार और सफेदपोशों को भी एके-47, एके-56 जैसे ऑटोमेटिक हथियारों की सप्लाई करता है. दरअसल बीते सात फरवरी को पूर्णिया पुलिस ने अत्याधुनिक हथियारों की बड़ी खेप पकड़ी थी.

ये भी पढ़ें- PHOTOS: सफारी की छत, सायलेंसर और डैशबोर्ड से मिली एके-47, पटना में होनी थी डील

इस खेप में एके 47 के अलावा यूबीजीएल यानि ग्रेनेड लांचर जैसे हथियार थे जिन्हें तबाही का सबब माना जाता है. पुलिस ने हथियार सप्लायरों की गाड़ी से करीब 18 सौ कारतूस भी बरामद किए थे. हथियारों के इस जखीरे की बरामदगी के साथ ही माना जा रहा था कि इसमें कोई बड़ी गिरोह संलिप्त है.



पूर्णिया पुलिस ने इस मामले में तीन तस्करों को गिरफ्तार किया जिन्होंने पूछताछ में कई अहम राज उगले. एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि तस्करों को कोर्ट से पांच दिन के रिमाण्ड पर लिया गया है. पुलिस को पूछताछ के दौरान इन तस्करों ने कई अहम जानकारियां दी है. एसपी ने कहा कि हवाला के माध्यम से अत्याधुनिक हथियारों का सौदा होता था.

ये भी पढ़ें- पूर्णिया पुलिस का बड़ा खुलासा, नगा उग्रवादी संगठन से जुड़े हैं गिरफ्तार तस्करों के तार

ये तस्कर पहले भी पटना के मुकेश सिंह और आरा के संतोष सिंह को गोली और एके-47 रायफल की खेप पहुंचा चुके हैं. एसपी के मुताबिक पटना के मुकेश सिंह का संबंध नागालैंड के उग्रवादी संगठन एनएससीएम आईएम से रहा है. मुकेश इन्हीं लोगों से हथियार मंगाकर बिहार ,झारखंड समेत कई इलाकों में बेचता था.

ये हथियार आठ से 12 लाख तक में नक्सलियों के हाथों बेचा जाता था वहीं नागालैंड से हथियार पटना तक पहुंचाने वालों को 10 हजार रुपया अलग से दिये जाते थे. एसपी ने कहा कि तीनों तस्करों को पांच दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है. जल्द ही कुछ और मामले के खुलासा होने की संभावना है. मालूम हो कि पूर्णिया में मिले हथियार की खेप के बाद जिला पुलिस के अलावा पुलिस मुख्यालय समेत आईबी के भी कान खड़े हो गए थे. पूर्णिया से पहले बिहार के मुंगेर से भी एके-47 रायफल की खेप मिली थी जिसकी तफ्तीश अभी भी चल रही है.
Loading...

रिपोर्ट- कुमार प्रवीण
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...