फर्जी गन लाइसेंस और अवैध हथियार के बड़े रैकेट्स का खुलासा, पढ़ें किस तरह चल रहा था ये गोरखधंधा

एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि पूर्णिया में कुछ दलाल लंबे समय से हथियारों का फर्जी लाइसेंस बनाकर लोगों को बंदूक मुहैया कराते थे और सुरक्षा गार्ड की नौकरी दिलाने का झांसा देकर मोटी रकम ऐंठते थे.

News18 Bihar
Updated: July 27, 2019, 11:11 AM IST
फर्जी गन लाइसेंस और अवैध हथियार के बड़े रैकेट्स का खुलासा, पढ़ें किस तरह चल रहा था ये गोरखधंधा
पूर्णिया पुलिस ने फर्जी लाइसेंस और हथियार दिलाने वाले गैंग का खुलासा किया
News18 Bihar
Updated: July 27, 2019, 11:11 AM IST
बिहार की पूर्णिया पुलिस ने फर्जी हथियार लाइसेंस बनाने और अवैध गन सप्लाई करने के बडे रैकेट्स का बड़ा खुलासा किया है.  पुलिस ने 10 अवैध बन्दूक, 60 कारतूस के साथ नौ लोगों को गिरफ्तार किया है. ये सभी सुरक्षा गार्ड बैंकों, अस्पतालों और निजी सुरक्षा गार्डों में तैनात थे. इन्हें फर्जी लाईसेंस बनाकर अवैध हथियारों के साथ सुरक्षा गार्ड के रूप में नौकरी दिलाने का गोरखधंधा चल रहा था.

एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि पूर्णिया में कुछ दलाल लंबे समय से हथियारों का फर्जी लाईसेंस बनाकर लोगों को बंदूक मुहैया कराते थे और सुरक्षा गार्ड की नौकरी दिलाने का झांसा देकर मोटी रकम ऐंठते थे. ऐसे बडे गिरोह का पर्दाफाश किया गया है.

पूर्णिया पुलिस ने 10 बंदूक के साथ 60 कारतूस भी बरामद किया है.


एसपी ने बताया कि इसमें कुल नौ लोगों को गिरफ्तार कर इनके पास से 10 बंदूक भी बरामद किया गया है. इनमें पांच दो नाली बंदूक और 60 कारतूस शामिल है. एसपी ने कहा कि फर्जी लाइसेंस बनाने वाला दो लोग फरार हो गया है. बकौल एसपी यह इंटर डिस्ट्रिक्ट्स रैकेट्स है और पुलिस इसमें लगातार अनुसंधान कर रही है.

एसपी ने बताया कि पकड़े गए बंदूक में कुछ तो मुंगेर का है औऱ कुछ बंदूक गन हाउस से खरीदा गया है. उन्होंने कहा कि जो एजेंसी इन लोगों को बैंकों, अस्पताल और बड़े लोगों को सुरक्षा गार्ड के रूप में तैनात करती थी, उसकी भी जांच की जा रही है.  साथ ही गन मुहैया कराने वाले गन हाउसों की मिलीभगत की भी जांच की जा रही है.

फर्जी लाइसेंस और अवैध हथियारों के रैकेट्स के इ खुलासे के बाद जांच का दायरा बढ़ाया गया.


वहीं, गिरफ्तार किए गए सुरक्षा गार्ड में परमानंद साह ने कहा कि सैदपुर के अरविंद 40 हजार रुपये में उसे गन औऱ लाइसेंस दिया था. वहीं, बैंक में सुरक्षा गार्ड के रुप में तैनात अनिल चौरसिया ने कहा कि दलाल ने उनसे गन देने और लाईसेंस देने के एवज में डेढ़ लाख रुपया लिया था. ऐसे पांच सौ लोग हैं जिनको ये दलाल फर्जी लाइसेंस और गन दे चुके हैं.
Loading...

रिपोर्ट- कुमार प्रवीण

ये भी पढ़ेंं-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पूर्णिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 27, 2019, 11:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...