सीमांचल के माटी पानी से 'गुलाबी मिर्च' के पैदावार

अब सीमांचल के जलवायु में गुलाबी मिर्च की खेती भी सफल साबित हो गईल बा.

News18 Bihar
Updated: December 7, 2018, 4:48 PM IST
सीमांचल के माटी पानी से 'गुलाबी मिर्च' के पैदावार
न्यूज18 फोटो
News18 Bihar
Updated: December 7, 2018, 4:48 PM IST
बिहार में पूर्णिया जिला के कीर्त्यानन्दनगर प्रखंड के रामनगर गांव के एगो बड़ा किसान आपन लमहर भूखंड प गुलाबी मिर्च के खेती अउर खास पैदावर कर रहल बाड़े. पिछले पांच साल से येह जगह प गुलाबी मिर्च यानि पिंक पीपर के उत्पादन करके ओकरा देश के महानगरन के कुछ चुनिंदे खरीददारों के ऊंचा भाव पर बेचल जा रहल बा. पिंक पीपर के इस्तेमाल, सुगंधित तेल,बेहतरीन रेसिपी के मसाला अउर कुछ जरुरी दवाई बनावे खातिर कईल जाला.

सीमांचल के ही किशनगंज जिला के ठाकुरगंज में पहिले से ही काली मिर्च और तेजपत्ते की खेती बढ़िया से हो रहल बा. एहिजा के चाय बागान तो पूरा तेजपत्ते से ही ढंकल होला. अब सीमांचल के जलवायु में गुलाबी मिर्च की खेती भी सफल साबित हो गईल बा.

ये भी पढ़ें-  तेजप्रताप ने डंके की चोट पर किया लड़ाई का ऐलान, ऐश्वर्या को नोटिस जारी

अनुभवी किसान लोग सीमांचल इलाका के मसाला फसलन के खेती के खातिर सही जगह मान रहल बाड़े अउर एह खेती के कई तरह से फायदेमंद बता रहल हउअन. जानीं जे कि, पूर्णिया प्रमंडल में अदरख, हल्दी, हरीअर, लाल, मिरचाई अउर धनिया के खेती भी बड़ा बढ़िया से होला.

ये भी पढ़ें-  मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केसः सीबीआई की चार्जशीट आज, यहां पढ़ें पूरा मामला

ऐने के एगो अनुभवी किसान संजय बनर्जी कहेले कि राज्य सरकार सीमांचल इलाका के कई किसिम के मसालन के खेती के इलाके के रूप में चाहे त आगे बढ़ा सकेली.

(राजेंद्र पाठक)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->