Home /News /bihar /

आईएसआई के तार बिहार से जुड़ने के बाद भारत-नेपाल बॉर्डर पर बढ़ाई गई चौकसी

आईएसआई के तार बिहार से जुड़ने के बाद भारत-नेपाल बॉर्डर पर बढ़ाई गई चौकसी

गाड़ियों की जांच करते एसएसबी के अधिकारी

गाड़ियों की जांच करते एसएसबी के अधिकारी

  • News18.com
  • Last Updated :
कानपुर रेल हादसे के तार नेपाल और बिहार के मोतिहारी से जुड़ने के बाद से भारत-नेपाल सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है.

बिहार के सुपौल जिले से जुड़े भारत-नेपाल सीमा पर इन दिनों एसएसबी ने सुरक्षा का घेरा बढ़ा दिया है. बीते दिनों कानपुर रेल हादसे के बाद इसके तार बिहार से जुड़े थे जिसके बाद मोतिहारी से पुलिस ने तीन व्यक्तियों को पकड़ा था.

रेल हादसे से आईएसआई के तार जुड़े होने के साथ ही घटना में आईएसआई की संलिप्तता की बात भी सामने आयी थी. आईएसआई की संलिप्तता सामने आने के बाद सीमा पर हर आने जाने वालों की सघन तालाशी ली जा रही है. भारत-नेपाल सीमा के वीरपुर स्थित एसएसबी 45 वीं बटालियन सुपौल जिले से पूरब अररिया सीमा तक और पश्चिम में मधुबनी जिले तक के क्षेत्र तक सीमा पर कार्यरत हैं.

21 जनवरी को होने वाले विश्व के सबसे बड़े मानव श्रृंखला में भी सीमा के पार से किसी भी प्रकार की बाधा उत्पन्न न हो इसके लिए भी एसएसबी के जवान दिन-रात एक कर सीमा पर डटे हैं. इन दिनों सीमावर्ती क्षेत्रों में जवान अत्याधुनिक संयंत्र और मेटल डिटेक्टर से गाड़ियों की जांच की जा रही है

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर