पूर्णिया : बर्बरता ही हद पार करनेवाले 3 दरिंदों को मिली फांसी की सजा

पूर्णिया के कोठी थाना के लक्ष्मीपुर भीठा गांव के तीन युवकों ने गांव की ही एक किशोरी का सामूहिक दुष्कर्म के उसके अंग भंग कर हत्या कर दी थी और लाश मकई के खेत में छुपा दिया था.

Rajendra Pathak | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 15, 2018, 7:53 PM IST
पूर्णिया : बर्बरता ही हद पार करनेवाले 3 दरिंदों को मिली फांसी की सजा
ईटीवी फोटो
Rajendra Pathak | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 15, 2018, 7:53 PM IST
पूर्णिया में कोर्ट ने बर्बरता ही हद पार करनेवाले 3 दरिंदों को गुरुवार को फांसी की सजा सुनाई है. साथ ही तीनों दोषियों पर एक लाख का जुर्माना भी लगाया है. जिले के कोठी थाना के लक्ष्मीपुर भीठा गांव के तीन युवकों ने गांव की ही एक किशोरी का सामूहिक दुष्कर्म के उसके अंग भंग कर हत्या कर दी थी और लाश मकई के खेत में छुपा दिया था. ये फैसला एडीजे -1 के कोर्ट से सुनाया गया है.

6 साल बाद आये इस फैसले पर मृतका के भाई भोला मंडल और पिता जगदीश मंडल ने कोर्ट के फैसले पर संतोष जाहिर जताया है. मृतका के भाई भोला ने पूरी घटंना को निर्भया हत्याकांड जैसा बताते हुए कहा कि जिस तरह निर्भया की मां को इंसाफ नहीं मिलने तक नींद नहीं आती थी उसी हाल से उसका परिवार भी गुजर रहा था. पूर्णिया सिविल कोर्ट के इस फैसले को लोक अभियोजक सहित कई वकीलों ने अभूतपूर्व बताते हुए इसका स्वागत किया है.

फांसी की सजा पाने वाले दोषियों के नाम प्रशांत,रुपेश और सोनू हैं जो घटना के समय वयस्क थे. ये तीनों लक्ष्मीपुर भीठा गांव के ही रहनेवाले हैं. इस कांड के कथित सूत्रधार और मामले में आरोपी गांव की एक अन्य लड़की के सरकारी गवाह बनने पर बरी कर दिया गया है. ये लड़की मृतका को बुलाकर उसके घर से मक्के के खेत में ले गई थी. इस कांड में कुल 6 नामजदों में 3 अन्य बरी कर दिया गया है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर