लाइव टीवी

VIDEO: बिहार के इस Quarantine center में वेस्टर्न म्यूजिक पर Aerobics करते हैं प्रवासी श्रमिक! स्कूल की भी बदल गई तस्वीर
Rohtas News in Hindi

Ajeet Kumar | News18 Bihar
Updated: May 22, 2020, 8:13 PM IST
VIDEO: बिहार के इस Quarantine center में वेस्टर्न म्यूजिक पर Aerobics करते हैं प्रवासी श्रमिक! स्कूल की भी बदल गई तस्वीर
रोहतास के क्वारंटाइन सेंटर की श्रमिकों ने तस्वीर ही बदल दी है.

कुछ श्रमिक जो गाना बजाना जानते हैं वे शाम में भजन-कीर्तन करते हैं. सबकुछ सामूहिक रूप से होता है. विद्यालय के प्रभारी कहते हैं कि क्वारंटाइन किए गए श्रमिक अपनी जवाबदेही निभाते हुए अपना वक्त बिता रहे हैं.

  • Share this:
रोहतास. एक तरफ जहां बिहार के विभिन्न जिलों से क्वरंटाइन सेंटर (Quarantine center ) में हंगामों की तस्वीरें आती रहती हैं, वहीं रोहतास (Rohtas) से एक सुखद तस्वीर सामने आई है. दरअसल रोहतास जिला के नक्सल प्रभावित इलाकों प्रखंड के पतलूका मध्य विद्यालय क्वारंटाइन सेंटर का नजारा अद्भुत है. क्वारंटीन किए गए लोगों ने अपने जज्बे से झाड़ की ओट में छिप चुके विद्यालय का काया कल्प कर दिया है. वहीं, यहां सुबह-सुबह वेस्टर्न म्यूजिक (Western music) की थाप पर यहां श्रमिक एरोबिक्स (Aerobics) करते नजर आते हैं. तेज संगीत के बीच एरोबिक्स के दौरान कुछ उत्साही मजदूर नृत्य करने लगते हैं. विद्यालय के प्राचार्य खुद संगीत की थाप पर इन लोगों को उत्साहित करते हैं ताकि नकारात्मक ऊर्जा से बचा जाए. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया जा रहा है.

दरअसल श्रमिकों की सकारात्मक ऊर्जा से अब इस विद्यालय के परिसर की तस्वीर ही बदल गई है. पिछले ढाई महीने से बंद पड़े स्कूल में जंगल झाड़ उग आए थे, लेकिन यहां के क्वारंटाइन किए गए मजदूरों ने पूरे परिसर को साफ सुथरा कर दिया. यहां तक कि विद्यालय के पीछे खाली जमीन में सब्जी की खेती शुरू कर दी है.

यहां क्वारंटाइन किए गए 81 लोगों में 4 महिलाएं हैं. जब से यहां मजदूर आए हैं तब से मजदूरों के इस अपनापन को देखते हुए यहां के विद्यालय के हेडमास्टर सह क्वारंटाइन सेंटर के प्रभारी अनिल कुमार सिंह भी मजदूरों के साथ खड़े दिख रहे हैं.







कुछ श्रमिक जो गाना बजाना जानते हैं वे शाम में भजन-कीर्तन करते हैं. सबकुछ सामूहिक रूप से होता है. विद्यालय के प्रभारी कहते हैं कि क्वारंटाइन किए गए श्रमिक अपनी जवाबदेही निभाते हुए सरकार के इस विद्यालय को साफ सुथरा करने में अपना वक्त बिता रहे हैं.

श्रमिक विद्यालय परिसर में कर रहे हैं बागवानी
यह प्रवासी श्रमिक जब से इस विद्यालय में आए हैं पूरा परिसर गुलजार हो गया. पीछे की खाली जमीन में ये लोग सब्जी के पौधे लगा दिए हैं. इन श्रमिकों का कहना है कि जब वे विद्यालय छोड़कर जाएं, और जब स्कूल शुरू हो तो बच्चे मिड डे मील में अपने विद्यालय के परिसर में उगने वाली सब्जियों का स्वाद ले सकें.

नक्सल प्रभावित है इलाका 

सबसे बड़ी बात है कि यह इलाका नक्सल प्रभावित है और बड़ी संख्या में इस इलाके से मजदूरी के लिए लोग देश के विभिन्न प्रांतों में जाते हैं. लेकिन लॉकडाउन के बाद ये लोग लौट के जब घर आए तो अपने गांव के विद्यालय में क्वारंटाइन किए गए हैं.

क्या कहते हैं डीएम

डीएम पंकज दीक्षित कहते हैं कि सकारात्मकता से मानसिक स्तर पर लोग स्वस्थ रहते हैं. ऐसे में यह प्रयास सराहनीय है. हम सबको मिलकर कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को लड़ना होगा. तभी हम इससे जीत पाएंगे.

ये भी पढ़ें


कोरोना संक्रमित के शव को अधजला छोड़ा, कुत्तों और कौवों ने बनाया निवाला, इलाके में हड़कंप!




बिहार: BJP नेता ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर दर्ज कराया केस, PM CARES Fund पर भ्रम फैलाने का आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रोहतास से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 22, 2020, 6:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading