होम /न्यूज /बिहार /न्यूज 18 की खबर का बड़ा असर, दशकों से कैद सम्राट अशोक के लघु शिलालेख का ताला खुला

न्यूज 18 की खबर का बड़ा असर, दशकों से कैद सम्राट अशोक के लघु शिलालेख का ताला खुला

मजार कमेटी के कर्ता-धर्ता जीएम अंसारी ने बताया कि आर्कलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम आई थी.

मजार कमेटी के कर्ता-धर्ता जीएम अंसारी ने बताया कि आर्कलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम आई थी.

Bihar News: सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के सिलसिले में सारनाथ जाने के क्रम में सासाराम में वक्त बिताया था. उस द ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सम्राट अशोक के लघु शिलालेख मामले में न्यूज 18 की खबर का बड़ा असर हुआ है.
आर्किलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने सम्राट अशोक के लघु शिलालेख का ताला खुलवाया.

सासाराम. रोहतास के सासाराम अनुमंडल क्षेत्र में न्यूज18 की खबर का बड़ा असर हुआ है. पिछले महीने न्यूज़ 18 ने सासाराम के चंदन पहाड़ी पर सम्राट अशोक के लघु शिलालेख को कुछ लोगों द्वारा अतिक्रमण कर लिए जाने से संबंधित खबर प्रमुखता से चलाई गई थी. इस मामले में न्यूज़ 18  की खबर का बड़ा असर हुआ है. आर्किलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम आज सासाराम पहुंची और वर्षों से ताले में बंद सम्राट अशोक के लघु शिलालेख का ताला खुलवाया गया. साथ ही उसकी एक चाबी लेकर टीम के अधिकारी साथ चली गई.

बता दें, सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के सिलसिले में सारनाथ जाने के क्रम में सासाराम में वक्त बिताया था. उस दौरान उन्होंने एक शिलालेख भी लिखवायी थी. जिसे कुछ लोगों ने अतिक्रमण कर लिया था. जब न्यूज 18 ने इस खबर को प्रमुखता से चलाई तो पूरे बिहार में राजनीतिक क्षेत्र में हलचल मच गई थी. बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी खुद सासाराम में आकर इसको लेकर धरना दिए थे. तब यह मामला काफी सुर्खियों में आया था. अब जाकर- इसका ताला खुला है तथा आर्किलॉजिकल सर्वे की टीम ने खुद अपने पास एक चाभी रखी है. एक चाबी स्थानीय मजार कमेटी को सौंपी गई है. सम्राट अशोक के लघु शिलालेख को मजार बना दिए जाने से संबंधित खबर चलाए जाने का बड़ा असर हुआ है.

क्या कहते हैं मजार कमेटी के जीएम अंसारी

इस संबंध में मजार कमेटी के कर्ता-धर्ता जीएम अंसारी ने बताया कि आर्कलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम आई थी. उस शिलालेख के गुफा का जो ताला लगा है. उसकी एक चाबी उन्हें सौंप दी गई है तथा दूसरी चाबी उनके पास है. चुकी वर्षों से ही उसकी देखरेख मजार कमेटी करते आई है. इसलिए फिलहाल एक चाबी उनके पास भी है. यह एक ऐतिहासिक चीज है और ऐतिहासिक चीज के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है.

Tags: Bihar News, Rohtas Nagar, Sasaram news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें