• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • तबीयत बिगड़ने पर भी Lockdown में ड्यूटी करते रहे थानेदार, हार्ट अटैक से मौत

तबीयत बिगड़ने पर भी Lockdown में ड्यूटी करते रहे थानेदार, हार्ट अटैक से मौत

बिहार के रोहतास के मृतक थानेदार की फाइल फोटो

बिहार के रोहतास के मृतक थानेदार की फाइल फोटो

रोहतास (Rohtas) में दिवंगत हुए इस पुलिस अधिकारी (Police Officer) के बारे में बताया जाता है कि पिछले 1 महीने से अधिक समय से ऋषिकेश सिंह लगातार लॉकडाउन (Lockdown) की ड्यूटी पर थे. इस दौरान उनकी पहले से ही तबीयत ठीक नहीं थी

  • Share this:
रोहतास. गुरुवार की सुबह रोहतास (Rohtas) जिला के पुलिस महकमे में अचानक उस समय शोक की लहर दौड़ गई जब राजपुर प्रखंड अंतर्गत धर्मपुरा ओपी के थानाध्यक्ष (SHO) ऋषिकेश सिंह की हृदय गति रुकने से मौत की खबर आई. बताया जाता है कि पिछले 1 महीने से अधिक समय से ऋषिकेश सिंह लगातार लॉकडाउन (Lockdown) की ड्यूटी पर थे. इस दौरान उनकी पहले से ही तबीयत ठीक नहीं थी फिर भी अपने कर्तव्य को सर्वोच्च स्थान पर रखते हुए वह लगातार ड्यूटी निभा रहे थे. लेकिन बुधवार की रात हृदय गति रुकने से उनकी मौत हो गई.

पहले भी दो बार आ चुका था हार्ट अटैक

घटना की सूचना मिलते ही भोजपुर के पचगांव से उनके परिजन सासाराम आ गए. परिजनों ने बताया कि पिछले कई महीने से उनकी तबीयत ठीक नहीं चल रही थी. पहले भी दो बार उन्हें अटैक आ चुका था लेकिन फिर भी वे लगातार ड्यूटी कर रहे थे. बुधवार की रात दूरदर्शन पर 'रामायण' सीरियल देखने के बाद उनकी तबीयत बिगड़ने लगी. आनन-फानन में साथ रह रहे पुलिसकर्मियों ने उन्हें डेहरी के जमुहार स्थित नारायण मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल लाया लेकिन चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. बताया जाता है कि रास्ते में ही ऋषिकेश सिंह ने दम तोड़ दिया था.

दिवंगत थानाध्यक्ष को दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर

उनके सहयोगी पुलिसकर्मियों ने उनके शव को तमाम तरह की प्रक्रिया के बाद सासाराम के सदर अस्पताल में लाया जहां उनके शव का पोस्टमार्टम कराया गया. बाद में पुलिस के अधिकारियों ने उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया. बता दें कि मृतक ऋषिकेश सिंह 55 वर्ष के थे. वो अपने पीछे एक पुत्र, एक पुत्री तथा पत्नी को छोड़ गए.

सिपाही से पदोन्नत होकर बने थे दरोगा

ऋषिकेश सिंह पुलिस विभाग के कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी माने जाते थे. उनके साथियों ने बताया कि उनकी बहाली सिपाही ग्रेड में हुई थी लेकिन अपने कर्तव्य- परायणता के कारण पदोन्नत होते गए तथा पिछले 6 महीना से वे धर्मपुरा जैसे संवेदनशील क्षेत्र के थानाध्यक्ष थे.

ये भी पढ़ें- कोटा में फंसे बिहार के बच्चों को लाने के लिए पप्पू यादव ने भेजीं 30 बसें

ये भी पढ़ें- बाहर फंसे 27 लाख लोगों को लाने के लिए बिहार सरकार ने की नॉन स्टॉप ट्रेनों की मांग

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज