Rohtas: शिकायत मिली तो PPE किट पहन कोविड मरीजों से मिलने देर रात अस्पताल पहुंचे डीएम

सासाराम सदर अस्पताल का निरीक्षण करते डीएम

सासाराम सदर अस्पताल का निरीक्षण करते डीएम

Rohtas Corona Crisis : देर रात सदर अस्पताल में डीएम खुद आइसोलेशन वार्ड पहुंचे और हालातों का जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने लापरवाह कर्मियों को हिदायत दी तथा बेहतर काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों का मनोबल बढ़ाया.

  • Share this:
रोहतास. बिहार में जारी कोरोना महामारी के तेजी से बढ़ते (Bihar Corona Crisis) के बीच रोहतास के डीएम धर्मेंद्र कुमार अचानक सोमवार की देर रात सदर अस्पताल पहुंचे और मरीजों का हालचाल जाना. डीएम पीपीई किट पहन कर आइसोलेशन वार्ड के अंदर तक गए तथा मरीजों के लिए की गई स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का जायजा भी लिया. डीएम जब अस्पताल का निरीक्षण कर रहे थे तो उनके साथ सिविल सर्जन डॉ. सुधीर कुमार भी थे.

दरअसल लगातार शिकायत मिल रही थी कि सदर अस्पताल में मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया नहीं कराया जा रहा है, जिसके बाद यह कदम उठाते हुए डीएम खुद आइसोलेशन वार्ड पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने लापरवाह कर्मियों को हिदायत दी तथा बेहतर काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों का मनोबल बढ़ाया. उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा प्रदत्त संसाधनों के बदौलत स्वास्थ्य विभाग बेहतर काम कर रहा है. उनकी टीम पूरी तरह से मुस्तैद के साथ मरीजों की सेवा में लगी है.

रोहतास में संक्रमित मरीज बढ़ते जा रहे

बता दें कि सदर अस्पताल में कई डॉक्टर संक्रमित हो चुके हैं, ऐसे में अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए डॉक्टर खुद मरीजों का भी ख्याल रख रहे हैं. डीएम ने सभी से सहयोग की अपील की. बता दें कि रोहतास जिला में संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है तथा लगातार मरीजों की मौत भी हो रही है. जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि रोहतास का स्वास्थ्य विभाग कोविड के मरीजों के इलाज के लिए लगातार सक्रिय है.
1 डॉक्टर की मौत, 8 से ज्यादा पॉजिटिव हो चुके

सिविल सर्जन सहित तमाम डॉक्टर्स की टीम लगी हुई है. उन्होंने बताया कि मरीजों का इलाज करते-करते जहां एक चिकित्सक की मौत भी हो चुकी है वहीं 8 से अधिक डॉ. पॉजिटिव हो चुके हैं. कई डॉक्टरों के परिवार के लोग भी संक्रमित हैं, ऐसे में खुद का ख्याल रखते हुए मरीजों का ख्याल रखने की जिम्मेदारी निभा रहे हैं. ऐसे समय में हम सबको सहयोग करने की आवश्यकता है. डॉक्टरो के मनोबल को बढ़ाने की जरूरत है. स्वास्थ्य कर्मी बेहतर काम कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज