लाइव टीवी

'नीतीश की हठ धर्मिता के कारण ही कोर्ट में गया शिक्षकों का मामला'

News18 Bihar
Updated: May 10, 2019, 4:09 PM IST
'नीतीश की हठ धर्मिता के कारण ही कोर्ट में गया शिक्षकों का मामला'
फाइल फोटो

कुशवाहा ने नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा कि सीएम नीतीश सरकार की हठधर्मिता के कारण ही ये मामला कोर्ट में गया है.

  • Share this:
नियोजित शिक्षकों के समान काम के बदले समान वेतन वाली चिर प्रतिक्षित मांग पूरी नहीं होने के साथ ही बिहार में राजनीति तेज हो गई है. इस मामले में विरोधी दलों ने सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. मोदी सरकार के पूर्व मंत्री और रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे सीएम नीतीश कुमार की हठ धर्मिता करार दिया है.

ये भी पढ़ें- मीसा भारती बोलीं- हम पूरी करेंगे नियोजित टीचर्स की मांग

सासाराम में कुशवाहा ने कहा कि राज्य सरकार ने शिक्षकों के मामले को इगो का सवाल बनाया है. उन्होंने शिक्षकों का समर्थन करते हुए कहा कि उनकी मांग जायज है जिसे राज्य सरकार को सुलझा लेना चाहिए था. कुशवाहा ने नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा कि सीएम नीतीश सरकार की हठधर्मिता के कारण ही ये मामला कोर्ट में गया है. कुशवाहा से पहले राजद सांसद और लालू प्रसाद की बड़ी बेटी ने भी इस मुद्दे को लेकर बयान दिया है.

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल करेंगें बिहार के शिक्षक

मीसा ने इस मामले में कहा कि हम लोगों की सरकार आई तो हम लोग शिक्षकों की हर मांग को पूरा करेंगे. मीसा के इस बयान पर बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन वर्मा ने पलटवार किया. उन्होंने शिक्षकों के जख्म पर मरहम लगाते हुए कहा कि हमारी सरकार सदैव से ही शिक्षकों के साथ है. वर्मा ने कहा कि आपके साथ आगे आने वाले दिनों में हितों को ख्याल रखते हुए उचित कदम उठाया जाएगा. शिक्षा मंत्री ने बिहार के शिक्षकों से फिलहाल संयमित रहने की अपील की. मीसा भारती के बयान पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि अभी दो चरण का चुनाव बाकी है और इस चुनाव को देखते हुए लोग तरह-तरह की बयानबाजी करेंगे.

ये भी पढ़ें- SC के फैसले से बिहार के 3.5 लाख नियोजित टीचर्स को झटका

उन्होंने कहा कि नियोजित शिक्षकों की असली शुभचिंतक हमारी सरकार और नीतीश कुमार है न कि कोई दूसरा. कोर्ट के फैसले पर जीतन राम मांझी की पार्टी हम की भी प्रतिक्रिया आई है. पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कोर्ट के इस फैसले पर दुख जताते हुए कहा कि जीतन राम मांझी ने शिक्षकों को समान काम समान वेतन लागू कर दिया था. निजी स्कूल मालिकों की मिलीभगत से नीतीश कुमार ने शिक्षकों के समान काम समान वेतन का फैसला पलटा है. दानिश ने कहा कि हमारी सरकार बनी तो शिक्षकों को समान काम के बदले समान वेतन मिलेगा साथ ही कांट्रेक्ट कर्मियों को भी हमारी सरकार नियमित करेगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रोहतास से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 10, 2019, 4:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...