Simri Bakhtiyarpur Assembly Seat: उपचुनाव में RJD की वापसी से इस बार दिलचस्प होगा मुकाबला

सिमरी बख्तियारपुर सीट पर इस बार होगा दिलचस्प मुकाबला
सिमरी बख्तियारपुर सीट पर इस बार होगा दिलचस्प मुकाबला

Bihar Assembly Election: सिमरी बख्तियारपुर सीट जेडीयू के दिनेश चंद्र यादव के सांसद बनने की वजह से खाली हुई थी. महागठबंधन से अलग होने के बाद जब इस सीट पर उपचुनाव हुआ तो जदयू को हार का सामना करना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 1:47 PM IST
  • Share this:
सहरसा. बिहार (Bihar) के सहरसा (Saharsa) जिले की सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा सीट (Simri Bakhtiyarpur Assembly seat) पर भी इस बार दिलचस्प मुकाबला देखने को मिलेगा. वैसे तो 2015 में इस सीट पर जेडीयू का कब्ज़ा हुआ था, लेकिन 2019 में हुए उपचुनाव में इस सीट को आरजेडी ने छीन लिया. सिमरी बख्तियारपुर सीट जेडीयू के दिनेश चंद्र यादव के सांसद बनने की वजह से खाली हुई थी. महागठबंधन से अलग होने के बाद जब इस सीट पर उपचुनाव हुआ तो जदयू को हार का सामना करना पड़ा. सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा उपचुनाव में एनडीए दूसरे नम्बर पर रही. यहां से आरजेडी के जफर आलम ने जीत दर्ज की. इस चुनाव में जदयू प्रत्याशी अरुण यादव को 55927 और जफर आलम राजद 71435 मत मिले थे.

पिछले दिनों बीजेपी ने सिमरी बख्तियारपुर सीट पर अपना दावा ठोका है. बीजेपी का कहना है कि गठबंधन के तहत इस बार यह सीट बीजेपी के खाते में आणि चाहिए. यह मांग स्थानीय कार्यकर्ताओं ने की. उधर चौड़ी सड़क, स्कूल, पेयजल और बिजली समस्या इस बार भी चुनाव का मुख्या मुद्दा होगा.

पिछले पांच विधानसभा में कौन-कौन रहे विधायक
2010   अरुण कुमार  जदयू
2005 (अक्टूबर)    दिनेश चंद्र यादव  जदयू


2005 (फरवरी)  दिनेश चंद्र यादव जदयू
2000  चौधरी महबूब अली कैशर  कांग्रेस
1995  चौधरी महबूब अली कैशर  कांग्रेस
1990  दिनेश चंद्र यादव  जनता दल

इतने वोटर

विधानसभा क्षेत्र में वोटर्स की संख्या की बात करें तो यहां पर कुल 304299 मतदाता हैं. पुरुष मतदाता की संख्या 52.25 प्रतिशत हैं. जबकि, महिला 47.75 प्रतिशत हैं. वहीं, 2015 विधानसभा चुनाव में 165256 मतदाताओं ने अपने मत का इस्तेमाल किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज