लाइव टीवी

बिहार: कला को नहीं रोक पाई दिव्यांगता, सहरसा की निधि ने पेश की प्रतिभा की मिसाल

News18 Bihar
Updated: April 27, 2019, 11:22 AM IST
बिहार: कला को नहीं रोक पाई दिव्यांगता, सहरसा की निधि ने पेश की प्रतिभा की मिसाल
बिहार के सहरसा जिले की निधि ने दिव्यांग होते हुए भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया

निधि जन्म से ही मूक-बधिर है, लेकिन उसकी प्रतिभा ने उसके इस जन्मजात शारीरिक दोष को न सिर्फ ढक दिया है बल्कि उसे और भी प्रसिद्ध बना दिया है.

  • Share this:
कहते हैं प्रतिभा कभी भी चेहरा या संपत्ति देखकर नहीं आती, यह परिश्रम और जुनून से निखरती है. जब प्रतिभा निखरती है तो वह दुनियां की ओर नहीं, बल्कि दुनियां उसकी ओर देखती है. सहरसा शहर के पुलिस लाइन वार्ड नंबर एक में रहने वाली निधि की कहानी भी कुछ ऐसी ही है.

निधि जन्म से ही मूक-बधिर है, लेकिन उसकी प्रतिभा ने उसके इस जन्मजात शारीरिक दोष को न सिर्फ ढक दिया है बल्कि उसे और भी प्रसिद्ध बना दिया है. निधि बेहतरीन पेंटर है और उसकी चित्रकारी देख हर कोई दांतों तले अंगुली दबाते रह जाता है.

निधि जैसे-जैसे बड़ी होती गई उसकी चित्रकारी की प्रतिभा निखरती गई. देखते ही देखते वह मिथिला पेंटिंग में भी निपुण हो गई. इसकी पेंटिंग को कई पुरस्कार भी मिल चुके हैं.

चित्रकला में निधि ने अपनी प्रतिभा से कमाल कर दिया


निधि की मां बताती हैं कि वह बचपन से ही बोलने और सुनने में सक्षम  नहीं है. इनकी मानें तो निधि को बचपन से ही चित्रकारी की ओर लगाव है. अब तो आस-पास के बच्चे भी पेंटिग सीखने आते हैं. निधि की मां के अनुसार यह बेकार हो चुके सामानों से भी उपयोगी और साजो सामान की वस्तुएं बनाती रहती है.

(यूपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं कक्षा के नतीजे सबसे पहले देखने के लिए यहां क्लिक करें

वहीं निधि के छोटे भाई की माने तो अपने बहन को देखकर ये भी पेंटिंग सीखता है. उसका कहना है कि सरकार और प्रशासन इस और ध्यान दे और ऐसे बच्चों के लिए इन्स्टीच्यूशन की सुविधा दे ताकि ये भी आगे बढ सकें.
Loading...

निधि ने दिव्यांगता को अपनी बेबसी नहीं बनने दिया. उसने अपने हुनर और प्रतिभा से वरदान बनाने वालों की उदाहरण बन चुकी है. यदि सरकार ऐसी प्रतिभा को प्रोत्साहन दे तो ये  प्रतिभाएं न सिर्फ अपना रंग बिखेरेंगी बल्कि नई उड़ान भी भरेंगी. यही नहीं मन में कभी दिव्यांगता को लेकर कभी निराश भी नहीं होंगी.

रिपोर्ट - कुमार अनुभव सिंह

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सहरसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 27, 2019, 10:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...