केंद्रीय मंत्री नित्यानन्द राय ने पूरी की शहीद के पिता की मांग, सड़क के लिए दिए इतने लाख रुपये
Samastipur News in Hindi

केंद्रीय मंत्री नित्यानन्द राय ने पूरी की शहीद के पिता की मांग, सड़क के लिए दिए इतने लाख रुपये
शहीद अमन कुमार सिंह के पिता की मांग पर केन्द्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने तत्काल पहल की

गांव पहुंचने पर शहीद अमन कुमार सिंह (Martyr Aman Kumar Singh) के पार्थिव शरीर को घर तक ले जाने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था. रोड (Road) नहीं होने के कारण शहीद के अंतिम दर्शन को पहुंच रहे लोगों को कीचड़ भरे रास्ते से गुजरना पड़ा था.

  • Share this:
समस्तीपुर. लद्दाख के गलवान घाटी (Galwan Valley) में चीनी सैनिकों (Chinese Army) के साथ हुई झड़प (Clash) में समस्तीपुर जिला के सुल्तानपुर गांव के रहने वाले बिहार रेजिमेंट (Bihar Regiment) के जवान अमन कुमार सिंह भी शहीद (Martyr) हो गये. उनका राजकीय सम्मान के साथ गांव में अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान घर तक सड़क नहीं होने को लेकर शहीद के पिता सुधीर कुमार सिंह ने सड़क निर्माण कराने की मांग की. जिसे गंभीरतापूर्वक लेते हुए केंद्रीय गृह राज्यमंत्री सह उजियारपुर लोकसभा के सांसद नित्यानन्द राय (Nityanand Rai) ने अपने संसदीय कोष से सड़क निर्माण करवाने के लिए ग्यारह लाख रुपए की अनुशंसा की है.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानन्द राय ने सुल्तानपुर गांव में शहीद अमन के घर तक जाने वाली सड़क का नाम भी शहीद के नाम पर रखने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा कि शहीद अमन की शहादत को कभी भुलाया नहीं जा सकता. उन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राण को न्यौछावर कर दिया.

पार्थिव शरीर को घर तक ले जाने में हुई थी परेशानी 



बता दें कि गांव पहुंचने पर शहीद अमन कुमार सिंह के पार्थिव शरीर को घर तक ले जाने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था. रोड नहीं होने के कारण शहीद के अंतिम दर्शन को पहुंच रहे लोगों और राज्य सरकार के प्रतिनिधि मंत्री महेश्वर हजारी को कीचड़ भरे रास्ते से होकर गुजरना पड़ा था, जिसके बाद शहीद के पिता ने घर तक के लिए सड़क की मांग की थी.
शहीद अमन ने 2014 में आर्मी जॉइन की थी

शहीद अमन ने 2014 में इंडियन आर्मी जॉइन की थी. फरवरी 2019 में उनकी शादी हुई थी. इस साल फरवरी में लेह-लद्दाख क्षेत्र में उनकी तैनाती हुई थी. लेह-लद्दाख में नई पोस्टिंग मिलने से पहले आठ दिन के लिए अमन घर आये थे.

गत 15 जून की रात लद्दाख की गलवान घाटी में चीन और भारत के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई. इसमें 20 जवान शहीद हो गए. इन जवानों में बिहार रेजिमेंट के समस्तीपुर जिले के अमन कुमार सिंह भी शामिल थे. 25 साल के शहीद अमन सिंह अपने पीछे पत्नी मीनू देवी, पिता सुधीर कुमार, माता रेणु देवी और दो भाइयों और एक बहन को छोड़ गए हैं.

 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading