लाइव टीवी

प्रिंस राज ने समस्तीपुर में बचाई NDA की लाज, अब मिली बड़ी जिम्मेदारी

News18 Bihar
Updated: October 25, 2019, 6:54 PM IST
प्रिंस राज ने समस्तीपुर में बचाई NDA की लाज, अब मिली बड़ी जिम्मेदारी
समस्तीपुर में प्रिंस के सामने सबसे बड़ी चुनौती औद्योगिक विकास और नए शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना है .

बिहार के समस्तीपुर (samastipur) लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के प्रत्याशी प्रिंस राज (Prince Raj) को जीत हासिल हुई है.

  • Share this:
समस्तीपुर. बिहार में हुए उपचुनाव (By Election) में समस्तीपुर लोकसभा सीट (Samastipur Lok Sabha Seat) से लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के उम्मीदवार और दिवंगत सांसद रामचंद्र पासवान के बेटे प्रिंस राज (Prince Raj) की बड़ी जीत दर्ज की. इनके प्रतिद्वंदी कांग्रेस के डॉ अशोक कुमार को लगातार पांचवीं हार का सामना करना पड़ा. वहीं, शुक्रवार को पार्टी ने प्रिंस राज को एलजेपी का प्रदेश अध्यक्ष  (State President) बना दिया.

मूल रूप से प्रिंस राज बिहार के खगड़िया जिले के अलौली थाना अंतर्गत शहरबन्नी के मंत्री टोला के रहने वाले हैं. प्रिंस की शिक्षा-दीक्षा की बात करें तो शुरुआती शिक्षा दिल्ली में हुई और सीनियर सेकेंडरी की परीक्षा साल 2007 में एनआईओएस नोएडा से पास किया. वहीं, मदुरै कामराज यूनिवर्सिटी से साल 2010 में बीबीए की पढ़ाई पूरी की. उन्होंने साल 2012 में इंटरनेशनल बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई लंदन से पूरी की.

नवनिर्वाचित सांसद प्रिंस राज के सामने है दोहरी चुनौती
एलजेपी के नवनिर्वाचित सांसद और पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष प्रिंस राज के सामने अब दोहरी चुनौती है. एक तरफ जहां समस्तीपुर लोकसभा क्षेत्र की जनता के सामने इन्हें खरा उतरना है तो वहीं संगठन की नई जिम्मेवारी भी निभानी है. समस्तीपुर में प्रिंस के सामने सबसे बड़ी चुनौती औद्योगिक विकास और नए शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना है जिससे युवाओं को रोजगार परक शिक्षा मिले. साथ ही क्षेत्र के लोगों की महत्वाकांक्षा के सामने भी इन्हें खरा उतरना होगा जो इनके लिए एक अग्निपरीक्षा की तरह है. क्योंकि इस बार का चुनाव तो सहानुभूति और नरेंद्र मोदी के नाम पर जीत ली गई लेकिन आने वाले वक्त में जो चुनाव इनके सामने होगा वह इन्हें अपने कर्मों पर लड़नी होगी. उपचुनाव प्रचार के दौरान हुए जनसभाओं में नवनिर्वाचित सांसद प्रिंस राज अपने पिता के अधूरे कार्यो को पूरा करने का वादा लोगों से किया है. साथ ही बंद पड़े उद्योग खुलवाने के लिए वादे किए.

संगठन संभालने की चुनौती
वहीं, समस्तीपुर लोकसभा क्षेत्र से जीतने के बाद पार्टी ने इन्हें बिहार के संगठन का अध्यक्ष बनाया है. इन्हें साबित करना होगा कि सांगठनिक क्षमता इनमें कितनी है. इसके लिए न सिर्फ समस्तीपुर के संगठन बल्कि पूरे बिहार प्रदेश के संगठन को एक साधे हुए कारीगर की तरह सजानी होगी. अब तक जो लोक जनशक्ति पार्टी के बारे में धारणा है कि यह परिवार की ही मात्र पार्टी बनकर रह गई है, इस धारणा से समस्तीपुर और बिहार के जनमानस के मन से खत्म करना बहुत बड़ी चुनौती है. साथ ही संगठन के साथ अनुभवी और युवा चेहरे को भी आगे लाना होगा. यूं कहें तो लोक जनशक्ति पार्टी बिहार के संगठन को मजबूत करने के लिए इन्हें चाणक्य की भूमिका में भी आनी होगी.

(रिपोर्ट- मुकेश कुमार)
Loading...

ये भी पढ़ें-

AIMIM की जीत पर बोले गिरिराज- ओवैसी की जिन्नावादी सोच, कांग्रेस का पलटवार

जानिए कौन हैं बिहार LJP की कमान संभालने वाले प्रिंस राज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए समस्तीपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 6:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...