• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • यह कैसा सिस्टम! स्वतंत्रता सेनानी की बेटी से मांगा जा रहा बेटी होने का सबूत! 'बाबुओं' के चक्कर में...

यह कैसा सिस्टम! स्वतंत्रता सेनानी की बेटी से मांगा जा रहा बेटी होने का सबूत! 'बाबुओं' के चक्कर में...

सक्सेसन सर्टिफिकेट के लिए भटक रहा स्वतंत्रता सेनानी रामसुदिष्ट राय का परिवार

Samastipur News: सरकार ने सभी जिला अधिकारी को स्वतंत्रता सेनानी के परिजनों को  प्रमाण पत्र देने का निर्देश जारी किया था. बावजूद इसके समस्तीपुर में स्वतंत्रता सेनानी के परिजन उत्तराधिकार प्रमाण पत्र के लिए कार्यालयों के महीनों से चक्कर लगा रहे हैं.

  • Share this:

समस्तीपुर. स्वतंत्रता संग्राम (Freedom Struggle) में देश के लिए जिन्होंने अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया आज उनकी बेटी से ही बेटी होने का सबूत मांगा जा रहा है. जिस परिवार को जिला प्रशासन द्वारा मान सम्मान दिया जाना चाहिए था, आज वह परिवार अपनी पहचान साबित करने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है. मामला समस्तीपुर जिले के रोसड़ा अनुमंडल क्षेत्र के भिरहा गांव का है जहां स्वतंत्रता सेनानी रामसुदिष्ट राय (Freedom Fighter Ramsudishta Roy) की बेटी मंजीरा झा को जिला प्रशासन द्वारा उत्तराधिकार प्रमाण पत्र (Succession Certificate) नहीं दिया जा रहा है. पिछले 14 महीने से रोसड़ा अंचल कार्यालय से लेकर जिला मुख्यालय तक का चक्कर लगा-लगा कर थक चुकी हैं.

बता दें कि स्वतंत्रता सेनानी के दो पीढ़ियों को राज्य सरकार के सेवाओं में दो प्रतिशत का क्षैतिज आरक्षण प्राप्त होता है. इसको देखते हुए उन्होंने अपने पुत्र के साथ जिलाधिकारी को उत्तराधिकार प्रमाण पत्र के लिए दो वर्ष पूर्व आवेदन दिया. जिसकी जांच का जिम्मा जिला से रोसड़ा अंचलाधिकारी अम्बपाली यादव को सौंपा गया. यहां उनसे स्वतंत्रता सेनानी के बेटी होने का सबूत मांगा गया.

उन्होंने सबूत के तौर पर बिहार बोर्ड के दसवीं का सर्टिफिकेट, बारहवीं के एडमिट कार्ड, आधार कार्ड के साथ साथ शपथ पत्र भी दिया, लेकिन इसे मान्यता नहीं दी गई. फिर उन्हें वंशावली पेश करने को कहा गया. उन्होंने वंशावली भी जमा किया, लेकिन उसके बाद भी उन्हें उत्तराधिकार प्रमाण पत्र के लिए लगातार दौड़ाया जा रहा है.

बता दें कि वर्ष 2016 के बिहार सरकार के गजट के मुताबिक बिहार राज्य के पेंशन प्राप्त स्वतंत्रता सेनानियों के दो पीढ़ी तक उत्तराधिकार प्रमाण पत्र निर्गत करने एवं उनके सभी उत्तराधिकारियों पोता-पोती, नाती-नतिनी को राज्य सरकार की सेवाओं में नियुक्ति में दो प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण प्रदान करने का आदेश दिया गया था. स्वतंत्रता सेनानी के पारिवारिक सदस्यों को उत्तराधिकार प्रमाण पत्र निर्गत करने के लिए सभी जिला पदाधिकारी को अधिकृत किया गया था.

जिलाधिकारी द्वारा मनोनीत अपर समाहर्ता स्तर के अधिकारी को इस प्रमाण पत्र को निर्गत करने के लिए सक्षम बताया गया है. इस मामले में समस्तीपुर के प्रभारी जिला अधिकारी और अपर समाहर्ता विनय कुमार राय ने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में नहीं था. न्यूज18 के माध्यम से मामले की जानकारी हुई है और काम को शीघ्र पूरा करवाया जाएगा.

अधिकारियों के द्वारा भले ही मामले की जानकारी नहीं होने की बात कही गई है, लेकिन सवाल उठता है कि 14 महीने से स्वतंत्रत सेनानी के परिवार के लोग कार्यालयों के चक्कर लगा रहे हैं और इस तरह के हास्यास्पद जवाब अधिकारियों के किया जा रहा है जो अपने आप में कई सवाल खड़ा कर रहे हैं. जब अधिकारियों के द्वारा स्वतंत्रता सेनानी के परिवार को सम्मान देने के जगह उन्हें लगातार दौड़ाया जा रहा है तो आम लोगों के साथ क्या होता होगा इसका अंदाजा आप खुद ही लगा सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज